Paras Hospital सील होने के बाद स्टाफ की गुंडागर्दी, बाहर खड़े लोगों को लात-घूंसों से जमकर पीटा

Paras Hospital में मौतों की मॉक ड्रिल का वीडियो वायरल होने के बाद सिलिंग की कार्रवाई के साथ हॉस्पिटल मालिक डॉ. अरिंजय जैन के खिलाफ मुकदमा दर्ज।

By: lokesh verma

Published: 09 Jun 2021, 01:12 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आगरा. यूपी के आगरा स्थित पारस हॉस्पिटल (Paras Hospital) में कोरोना मरीजों की मौत की मॉक ड्रिल (Mock Drill) का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। कोरोना मरीजों की मौतों की मॉक ड्रिल का वीडियो वायरल होने के बाद हॉस्पिटल को सील (Paras Hospital Seal) कर दिया गया। सील करने के आदेश आते ही हॉस्पिटल स्टाफ की गुंडई का मामला सामने आया है। सिलिंग की कार्रवाई के बाद स्टाफ ने बाहर खड़े लोगों से जमकर मारपीट की। अब स्टाफ की गुंडागर्दी (Hooliganism of Paras Hospital Staff) का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। पुलिस अधिकारियों ने वायरल वीडियो (Viral Video) का संज्ञान लेते हुए कड़ी कार्रवाई की बात कही है।

यह भी पढ़ें- आगरा में 'मौत का मॉक ड्रिल', ऑक्सीजन बंद कर देखा गया कितने मरीज मरने वाले हैं, वीडियो वायरल

दरअसल, पारस हॉस्पिटल स्टाफ की गुंडागर्दी वायरल वीडियो में साफ नजर आ रही है। वायरल वीडियो के अनुसार, स्टाफ ने हॉस्पिटल के बाहर खड़े लोगों पर सीधा हमला बोल दिया। इसके बाद उन्होंने आम लोगों को लात-घूंसों से जमकर पीटा। बताया जा रहा है सिलिंग की कार्रवाई से बौखलाकर स्टाफ ने गुंडागर्दी की है। बता दें कि इससे पहले स्टाफ और कांग्रेसियों के हंगामा का वीडियो प्रकाश में आया था, जिसमें दोनों के बीच झड़प हो रही थी और जिला प्रशासन सिलिंग की कार्रवाई कर रहा था।

हास्पिटल मालिक के खिलाफ दर्ज हुआ मुकदमा

बता दें कि न्यू आगरा थाने में पारस हॉस्पिटल के मालिक डॉ. अरिंजय जैन के विरूद्ध धारा 188 और 505 के साथ महामारी एक्ट के सेक्शन-3 और आपदा प्रबंधन अधिनियम के सेक्शन-52 व 54 के तहत केस दर्ज किया गया है। हॉस्पिटल में भर्ती मरीजों को अन्य अस्पतालों के शिफ्ट कर सिलिंग की कार्रवाई की गई है।

यह था पूरा मामला

यहां बता दें कि पारस हॉस्पिटल के मालिक डॉ. अरिंजय जैन के सोमवार को 3 वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुए थे। वायरल वीडियो में हॉस्पिटल के मालिक द्वारा मरीजों की ऑक्सीजन बंद कर मॉक ड्रिल की गई थी, जिसमें 5 मिनट में 22 मरीजों की मौत हुई थी। जबकि हॉस्पिटल में 96 मरीज उपचाराधीन थे। वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद जिलाधिकारी प्रभु एन सिंह और वरिष्ठ पुलिस अधिक्षक मुनिराज भगवान पारस हॉस्पिटल पहुंचे। जहां जिलाधिकारी ने हॉस्पिटल को सील करने और मालिक के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के निर्देश जारी किए। इसके साथ ही हॉस्पिटल में भर्ती मरीजों को अन्य अस्पतालों में शिफ्ट करने के निर्देश सीएमओ को दिए। जिलाधिकारी ने कहा कि ऑक्सीजन से मौतों की शिकायत मिलती है तो जांच की जाएगी।

यह भी पढ़ें- मॉकड्रिल के नाम पर मरीजों की जान लेने वाला पारस हॉस्पिटल सील, मुकदमे की तैयारी

lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned