रीचार्ज करने के बहाने घर में घुसकर दंत चिकित्सक की हत्या करने वाले आरोपी को पुलिस ने पकड़ा

— थाना कमलानगर के कुंज कॉलोनी में दंत चिकित्सक की बेरहमी से कर दी गई थी हत्या, बच्चों ने बताई थी पूरी घटना।

By: arun rawat

Published: 21 Nov 2020, 12:51 PM IST

आगरा। उत्तर प्रदेश के आगरा में दिल दहलाने वाली घटना के बाद पुलिस ने हत्यारोपियों को गिरफ्तार कर लिया। बच्चों ने पुलिस को पूरी घटना बताई थी। हत्यारोपी रीचार्ज करने के बहाने घर में घुसे थे और दंत चिकित्सक की हत्या कर फरार हो गए थे।

यह था पूरा मामला
कावेरी कुंज कॉलोनी में शुक्रवार दोपहर लगभग साढ़े तीन बजे टीवी रिचार्ज करने के बहाने से आए युवक ने दंत रोग चिकित्सक निशा सिंघल (38) की चाकू से गर्दन रेतकर हत्या करने के बाद घर में लूटपाट की। उसने डॉक्टर के बेटी एमिशा (8) और बेटे अद्वय (4) को भी गर्दन पर चाकू मारकर घायल कर दिया। सामने वाले घर में लगे सीसीटीवी की फुटेज से उसकी पहचान ट्रांस यमुना कॉलोनी निवासी शिवम पाठक के रूप में हुई। पुलिस ने रात 12:30 बजे उसे कालिंदी विहार 100 फुटा रोड पर मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया। उसके दाएं पैर में गोली लगी है।

बच्चों ने दी थी जानकारी
बच्चों ने पुलिस को बताया है कि टीवी रीचार्ज के लिए आए युवक ने मां से कहा था कि वह आज उनकी सारी टेंशन खत्म कर देगा और अगले ही पल उसने चाकू से गला रेत दिया। वे पास के कमरे से यह देख रहे थे। युवक ने मां से मोबाइल लेकर कहा था कि वह एप डाउनलोड कर रहा है जिससे टीवी रिचार्ज किया जा सकता है, इसके बाद आपकी सारी टेंशन खत्म हो जाएगी। हत्यारोपी युवक पहले भी घर आ चुका है। उनका नाम शुभम है। उन्होंने ही घर में डिश लगाया था। वह रिचार्ज के लिए भी आते थे। दोपहर को उनसे पहले सब्जी वाला आया था।

दहशत के पल
3:30 बजे : हत्यारोपी बताया जा रहा युवक चिकित्सक के घर में घुसा
3:35 बजे : चिकित्सक निशा सिंहल की चाकू से हत्या कर दी
4:30 बजे : चिकित्सक के घर से बाहर निकला हत्यारोपी युवक
5:00 बजे : डॉ. अजय सिंहल घर पहुंचे, घायल पत्नी, बच्चों को गाड़ी में बिठाया
5:20 बजे : निजी अस्पताल में डॉक्टर ने निशा को मृत बताया, बच्चे भर्ती किए
5:45 बजे : पुलिस कावेरी कुंज में डॉ. निशा के घर पर पहुंची

Show More
arun rawat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned