सड़क से हटेंगे 15 साल पुराने ये 50 हजार वाहन, अब क्या करें वाहन स्वामी

सड़क से हटेंगे 15 साल पुराने ये 50 हजार वाहन, अब क्या करें वाहन स्वामी
policy to scrap

Dhirendra yadav | Updated: 19 Aug 2019, 12:42:21 PM (IST) Agra, Agra, Uttar Pradesh, India

आरटीओ द्वारा 15 साल पुराने वाहनों का रजिस्ट्रेशन समाप्त किए जाने की तैयारी की जा रही है।

आगरा। आरटीओ द्वारा 15 साल पुराने वाहनों का रजिस्ट्रेशन समाप्त किए जाने की तैयारी की जा रही है। ऐसे वाहनों की संख्या करीब 50 हजार है। यदि ऐसे वाहनों को बचाना चाहते हैं, तो किसी अन्य प्रदेश में रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं, लेकिन उसके लिए एनओसी ली जा सकती है।

ये भी पढ़ें - हॉस्पीटल के चेंजिंग रूम में पहुंचा डॉक्टर, नर्स से बोला मेरे सामने बदलो कपड़े, इसके बाद पूरे स्टाफ ने देखा ऐसा दृश्य जो...

शीघ्र होगा विज्ञापन जारी
एआरटीओ, प्रशासन एके सिंह ने बताया कि वर्ष 1989 के सभी वाहनों के रजिस्ट्रेशन निरस्त किए जाएंगे, इकसे लिए विज्ञापन जल्द ही जारी कर दिया जाएगा। ऐसे वाहनों की संख्या करीब 50 हजार है। वर्ष 2004 तक के वाहनों की संख्या करीब 30 हजार है, जिनका विज्ञापन छह महीने का समय देते हुए नवम्बर में जारी किया जाएगा। परिवहन कमिश्नर के आदेशानुसार वर्ष 1989 के वाहनों का प्रथम चरण का विज्ञापन शीघ्र ही जारी किया जाएगा।

ये भी पढ़ें - आईटी विभाग ने चलाया सदस्यता अभियान, भाजपा की ओर बढ़ रहा युवाओं का रुझान, देखें वीडियो

अब नहीं दिए जाएगा नोटिस
एआरटीओ, प्रशासन एके सिंह ने बताया पहले ऐसे वाहनों को नोटिस देने की प्रक्रिया थी, लेकिन अब नोटिस न देकर विज्ञापन जारी किए जाने के निर्देश दिए गए हैं। जिन वाहनों की आयु 15 साल या फिर इससे अधिक हो चुकी है और वाहन स्वामी उसे चलाना चाहते हैं, तो वहां पर चला सकते हैं, जहां पर इस प्रकार का प्रतिबंध नहीं है। इसके लिए विभाग उन्हें एनओसी देने के लिए तैयार है।

ये भी पढ़ें - 12वीं के बाद ही करें Carrer पर फोकस, तभी मिलेगी सफलता

होगी सीधी कार्रवाई
एआरटीओ, प्रशासन एके सिंह ने बताया कि अगर इस अवधि के वाहन चेकिंग के दौरान पकडे़ जाते हैं, तो उस वाहन के विरुद्ध सीलिंग की कार्रवाई के साथ ही दंड भी देना होगा। लिहाजा स्वयं ही ऐसे वाहनों का संचालन बंद कर दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें - कई बार IVF कराने के बाद भी नहीं मिल पा रहा संतान सुख तो ये खबर आपके लिए है

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned