प्रभु श्रीराम के दर्शन के लिए उमड़ा पूरा शहर

Dhirendra yadav

Publish: Sep, 17 2017 11:13:31 (IST)

Agra, Uttar Pradesh, India
प्रभु श्रीराम के दर्शन के लिए उमड़ा पूरा शहर

उत्तर भारत की प्रसिद्ध राम बरात ताजनगरी में बनी अयोध्या नगरी रावतपाड़ा से प्रारंभ हुई, तो श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ पड़ा।

आगरा। उत्तर भारत की प्रसिद्ध राम बरात ताजनगरी में बनी अयोध्या नगरी रावतपाड़ा से प्रारंभ हुई, तो श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ पड़ा। प्राचीन मन:कामेश्वर महादेव मंदिर स्थित लाला चन्नोमल की बारादरी से श्रृंगार के बाद दूल्हा बने श्रीराम, लक्ष्मण, भरत, और भ्राता शत्रुघ्न के स्वरूपों की आरती के बाद दिव्य रथों पर विराजमान किया गया। सिर पर रत्न जड़ित मुकुट, सूर्य जैसे तेज और अधरों पर मनमोहक मुस्कान लिए चारों भाइयों के दर्शन को पूरा शहर उमड़ रहा है।

100 से अधिक थीं झांकियां
बरात की शोभा सवा सौ से अधिक झांकियां और दर्जन भर बैंड बढ़ा रहे थे। रथों के घोड़े बड़े ही सुंदर सज्जा के साथ चंचल करने वाले थे। छैल-छबीले, शूरवीर राजकुमार हाथ में धनुष बाण लिए थे, तो कमर में तरकश बंधी थीं। सारथियों ने केशरिया ध्वजा, पताका और सज्जा से रथों को विलक्षण बना दिया था। इस पर लाइटिंग तो लाजवाब थी। 15 तरह के रोड शो में कलाकार विभिन्न देवी-देवताओं का स्वरूप धारणकर सजीव लीलाओं का मंचन करते चल रहे थे। श्रद्धालु बराती बनकर शामिल हुए। मनकामेश्वर मंदिर स्थित लाला चन्नूमल की बारहदरी पर भगवान श्रीराम और उनके अनुजों का श्रृंगार और मुकुट धारण करा उनकी आरती उतारी गई। इसके बाद प्रभु राम के स्वरूप आकर्षक सजावट वाले इंद्ररथ, लक्ष्मण शेषनाग वाले रथ और उनके अनुज भरत और शत्रुघ्न भी आकर्षक रथ पर सवार हुए। चांदी का प्राचीन रथ भी निकाला गया। इसमें भगवान विष्णु और लक्ष्मी जी सवार थे।

जीएसटी से परेशान व्यापारी
भगवान श्रीराम की बरात में सवा सौ झांकियां शामिल हुईं। सामाजिक मुद्दों को भी झांकियों का हिस्सा बनाया गया। जीएसटी की झांकी में व्यापारियों की परेशानी और हालात को दिखाया गया कि 25 हजार के कंप्यूटर लगाकर 14 हजार कमाने वाला व्यापारी कितना परेशान है। डोकलाम की झांकी में चीनी सैनिकों को सबक सिखाते भारतीय सैनिक आकर्षण का केंद्र रहे। भारत और श्रीलंका के बीच हुए टी ट्वंटी क्रिकेट मैच की झांकी में सेंट पीटर्स, सेंट पॉल्स और सेंट कॉनरेड्स के कक्षा सात तक के 11 छात्रों ने सजीव झांकी दिखाई। इनके अलावा भगवान के विभिन्न स्वरूपों में गणेश, शंकर जी, सती जी, गणेश जी की आरती करता मूषक, गंगा जी, मेहंदीपुर बालाजी, पवनपुत्र हनुमान जी, खाटू श्याम जी, भगवान परशुराम, 12 ज्योतिर्लिग, कुंभकर्ण-रावण संवाद आदि की झांकी थी।

कन्या भ्रूण हत्या के विरोध में दिया संदेश
आयोजन समिति के महामंत्री श्रीभगवान अग्रवाल ने बताया कि झांकियों के माध्यम से जागरूक करने की कोशिश की गई है, इसलिए कन्या भ्रूण हत्या, साक्षरता, बेटी पढ़ाओ-बेटी बढ़ाओ, पर्यावरण बचाओ, नदियों को बचाओ का संदेश देने के साथ नंदीग्राम की झांकियों को भी भगवान राम की बरात में शामिल किया गया। भगवान श्रीराम की बरात में 15 ग्रुपों में रोड शो हुआ। भगवान शिव की बरात में सुर-असुर और देवता नाचते-गाते शामिल हुए। हॉरर शो में कलाकारों ने भूत-प्रेत का रूप धारण कर डराया। बरसाने की होली, श्रीकृष्ण मयूरी नृत्य, राधारानी की झांकी के साथ नाचते हुए घोड़ों और गाय की झांकी भी रोड शो का आकर्षण रही। 15 बैंड बरात की शोभा बढ़ाते हुए ओम जय जगदीश हरे बजाते हुए शामिल हुए।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned