Breaking: आजम खान और वसीम रिजवी पर शिया धर्म गुरु कल्बे जव्वाद का बड़ा बयान, आरएसएस को भी लिया आड़े हाथ

शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जव्वाद बोले वसीम रिजवी और आजमखान को आरएसएस के लोग दे रहे सपोर्ट, अरबों रुपए की यूनीवर्सिटी की भाजपा सरकार में भी नहीं हुई जांच पड़ताल

By:

Updated: 03 Mar 2019, 05:08 PM IST

आगरा। शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जव्वाद ने पूर्व मंत्री आजमखां और उत्तर प्रदेश सेंट्रल शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी पर बड़े आरोप लगाए हैं। उन्होंने आजमखान पर आरोप लगाए हैं कि उन्होंने करोड़ों रुपए की बेईमानी की है। वसीम रिजवी पर सीबीआई की जांच हो। मौलाना कल्बे रविवार को डॉ.एचएस जाफरी के यहां मजलिस के लिए आए थे। यहां उन्होंने पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में आजम खान और वसीम रिजवी पर करारे हमले किए।

रिश्वत के पैसे से बनी यूनीवर्सिटी
उन्होंने कहा कि आज आजम खान और वसीम रिजवी को आरएसएस की सरपरस्ती मिली है। आरएसएस के कुछ नुमाइंदे आजमखान का साथ दे रहे है। उन्होंने आरोप लगाए कि अरबों रुपए की यूनीवर्सिटी बना ली है। उसकी कोई जांच नहीं हो रही है। अब तक कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। गंभीर आरोप लगाए कि आजम खां और वसीम रिजवी उन लोगों में से हैं जो हर तरह की रिश्वत दे सकते हैं। ये पैसों की रिश्वत भी देते हैं और जिसका जैसा शौक हो, उसे उस तरह की रिश्वत देते हैं। आरएसएस के लोग उनके साथ हैं जिसके कारण कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। नहीं तो अब तक उनका तिया पांचा हो गया होता। उन्होंने कहा कि हमें शिकायत आरएसएस से हैं जो इतना धर्मवादी होने का दम भरती है और चोरों, नटवरलालों की सरपस्ती कर रहे हैं। शिया सुन्नी वोट वसीम रिजवी की वजह से कटेंगे और हिन्दू वोट कटेगा आजमखान पर कार्रवाई नहीं करने की वजह से कटेंगे।

यूपी में सुधरी है व्यवस्थाएं
कल्बे जव्वाद ने कहा कि यूपी में योगी आदित्यनाथ की सरकार अच्छा काम कर रही है। माब लिचिंग की घटनाएं कम हुई है। दंगे फसाद कम हुए हैं। यूपी में घटनाएं कम हुई हैं। वहीं भाजपा सरकार में भ्रष्टाचार में काफी कमी आई है। वक्फ संपति को बचाने के लिए उन्होंने कहा कि सीबीआई की जांच होनी चाहिए। आज वक्फ बोर्ड सही हाथों में नहीं है।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned