हिन्दी के लिए धारा 348 में संशोधन कराने के लिए यूपी में हस्ताक्षर अभियान शुरू

-पहला हस्ताक्षर आगरा कॉलेज के प्राचार्यृ और द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी के पुत्र डॉ. विनोद कुमार माहेश्वरी ने किया

-चन्द्रशेखर उपाध्याय ने आगरा कॉलेज से ही 1990 में हिन्दी के लिए शुरू किया था अभियान

आगरा। सभी न्यायालयों में हिन्दी और अन्य भारतीय भाषाओं में कार्यवाही तथा आदेश कराने की मांग को लेकर उत्तर प्रदेश में हस्ताक्षर अभियान शुरू हो गया है। अभियान का शुभारंभ आगरा से किया गया है। पहला हस्ताक्षर आगरा कॉलेज के प्राचार्य और प्रसिद्ध साहित्यकार द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी के पुत्र डॉ. विनोद कुमार माहेश्वरी ने किया। संविधान की धारा 348 में संशोधन के लिए अभियान न्यायविद चन्द्रशेखर उपाध्याय हिन्दी से न्याय संस्था के माध्यम से चला रहे हैं।

यह भी पढ़ें

हिन्दी के लिए संसद का विशेष सत्र बुलाकर संविधान की धारा 348 में संशोधन तत्काल किया जाए, देखें वीडियो

1990 में की थी शुरुआत

चन्द्रशेखर उपाध्याय ने आगरा कॉलेज से हिन्दी माध्यम से एलएलएम किया था। इसके लिए उन्हें आंदोलन करना पड़ा था। भगत सिंह के बलिदान दिवस, 23 मार्च, 1990 को आगरा कॉलेज से देशव्यापी अभियान को गति दी थी। विश्वविद्यालय में भी बवाल हुआ था। 30 साल बाद फिर से वे आगरा कॉलेज पहुंचे। इसके साथ ही उत्तर प्रदेश के हर जिले में हस्ताक्षर अभियान शुरू होगा।

यह भी पढ़ें

चन्द्रशेखर उपाध्याय का सवाल- RSS का बीज मंत्र हिन्दी-हिन्दू-हिन्दुस्तान, अब हिन्दी के लिए अगंभीर क्यों, देखें वीडियो

Signature

पूरे देश में चलेगा अभियान

इस मौके पर डॉ. विनोद कुमार माहेश्वरी ने कहा कि देश के सर्वोच्च न्यायालय और 25 उच्च न्यायालयों में समस्त विधिक कार्यवाही के मांगपत्र पर पहला हस्ताक्षर करके गौरवान्वित हूं। वास्तव में हिन्दी से न्याय देश से न्याय है। सदियों से अंग्रेजों के मकड़जाल में जकड़े शासन को जगाने के लिए यह अभियान चल रहा है। यह अभियान शीघ्र ही देशव्यापी रूप लेगा। उन्होंने कहा कि प्रत्येक भारतीय को संकल्प पत्र पर हस्ताक्षर करना चाहिए।

यह भी पढ़ें

मुख्यमंत्री के रूप में नरेन्द्र मोदी ने गुजराती भाषा में वाद कार्यवाही का प्रस्ताव भेजा था, देखें वीडियो

ये रहे उपस्थित

इस मौके पर हिन्दी से न्याय संस्था के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष डॉ. देवी सिंह नरवार, राकेश चन्द्र कौशिक, दिनेश कुमार वर्मा सारथी, डॉ. योगेन्द्र सिंह, डॉ. केएस चाहर, डॉ. पीबी झा, डॉ. केडी मिश्रा, डॉ केपी तिवारी, पीके तिवारी, अर्चना श्रीवास्तव, बृजेश हरित, दिवाकर खिरवार, सत्येन्द्र सिंह खिरवार आदि मौजूद थे।

Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned