scriptSolver gang busted in Agra 6 arrested including clone fingerprints police surprised know planning | सॉल्वर गैंग का पर्दाफाश, फिंगरप्रिंट्स के क्लोन समेत 6 गिरफ्तार, प्लानिंग जानकर हैरान रह गई पुलिस | Patrika News

सॉल्वर गैंग का पर्दाफाश, फिंगरप्रिंट्स के क्लोन समेत 6 गिरफ्तार, प्लानिंग जानकर हैरान रह गई पुलिस

locationआगराPublished: Nov 24, 2023 09:59:40 pm

Submitted by:

Vishnu Bajpai

Solver Gang Agra: उत्तर प्रदेश के आगरा में पुलिस ने सॉल्वर गैंग का पर्दाफाश किया है। पकड़े गए छह आरोपियों के कब्जे से पुलिस को फर्जी फिंगरप्रिंट के क्लोन, लैपटॉप, बायोमैट्रिक मशीन समेत तमाम चीजें बरामद हुई हैं।

solver_gang_caught_in_agra.jpg
Solver Gang Caught in Agra: यूपी की ताजनगरी आगरा में शुक्रवार देर शाम पुलिस ने सॉल्वर गैंग के छह सदस्य गिरफ्तार किए हैं। इस दौरान दो आरोपी पुलिस को चकमा देकर मौके से फरार हो गए। आरोपियों के पास से पुलिस को नकदी, लैपटॉप, मोबाइल, बायोमीट्रिक मशीन के साथ फ्रिंगर प्रिंट क्लोन भी बरामद हुए हैं। ये आरोपी आगरा के एत्मादपुर स्थित देव कॉलेज में रुपये लेकर सॉल्वर बैठाने की तैयारी कर रहे थे। इसी बीच मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने कुबेरपुर यमुना एक्सप्रेसवे इंटरचेंज के पास छापेमारी कर इन्हें गिरफ्तार कर लिया। हालांकि इसमें से दो आरोपी पुलिस को चकमा देकर भाग निकले। थाना प्रभारी के मुताबिक आरोपियों से एक कलर प्रिंटर, एक लैमिनेटर, दो लैपटॉप, बायोमीट्रिक मशीन, एक मास्क में सिला हुआ मोबाइल व डिवाइस, 39 फ्रिंगर प्रिंट क्लोन, 38 आधारकार्ड, 17 प्रवेशपत्र, नौ मोबाइल फोन, 45 हजार रुपये व अन्य सामान बरामद किया गया है।

छलेसर चौकी प्रभारी और सर्विलांस टीम ने की कार्रवाई


एत्मादपुर थाना प्रभारी विजय विक्रम सिंह ने बताया कि छलेसर चौकी प्रभारी दीपक कुमार और सर्विलांस प्रभारी सचिन कुमार ने यह कार्रवाई की है। गिरफ्तार आरोपियों में फिरोजाबाद के गांव मक्खनपुर निवासी आकाश, आगरा बाह क्षेत्र के गांव गोपालपुर निवासी सतेंद्र सिंह, फिरोजाबाद के टूंडला स्थित स्टेशन रोड निवासी राजू उर्फ राजीव, आगरा के सिकंदरा के गांव सुनारी निवासी, रामौतार, कीर्ति प्रधान, एत्मादपुर के नगला रामबक्स निवासी अजय यादव हैं। जबकि फिरोजाबाद के गांव मक्‍खनपुर निवासी रोहित और इटावा निवासी जीतू मौके से फरार हो गए। सभी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। पकड़े गए आरोपियों को जेल भेज दिया गया है। जबकि फरार आरोपियों की तलाश की जा रही है।

सॉल्वर गैंग के सभी आरोपियों की अलग-अलग तय है जिम्मेदारी


थाना प्रभारी विजय विक्रम सिंह ने बताया कि पकड़े गए आरोपियों को परीक्षा दिलवाने के लिए अलग-अलग काम बांटा गया है। इसमें आरोपी राजू उर्फ राजवीर देव कॉलेज में बतौर बिजली मैकेनिक तैनात है। अजय यादव सॉल्वर को गेट से एंट्री दिलाता है। दूसरा आरोपी सतेंद्र कॉलेज कैंपस में होने वाली परीक्षाओं के दौरान अभ्यर्थियों के आधार कार्ड, प्रवेश पत्र और फिंगर प्रिंट चेक करने का काम करता है। इसी वजह से उसे परीक्षा में सॉल्वर बैठाने में कोई परेशानी नहीं होती है। वहीं तीसरे अभियुक्त अजय ने बताया कि वह कॉलेज कैंपस के गांव में रहता है। कीर्ति प्रधान, जीतू, आकाश उसका भाई रोहित अभ्यर्थी और सॉल्वर लाते हैं। वही सॉल्वर और अभ्यर्थी से रुपये लेनदेन का काम करते हैं। उसका काम सॉल्वर को परीक्षा में बैठाने का है। जिसमें राजू व सतेंद्र मदद करते हैं। अभ्यर्थियों को ढूंढने का काम रामावतार भी करता है।

अभ्यर्थियों के फिंगर प्रिंट का क्लोन तैयार करता है सॉल्वर गैंग


आरोपियों ने पुलिस पूछताछ में बताया है कि वह सभी लोग देव कॉलेज और जिले के अन्य परीक्षा केंद्रों में परीक्षार्थी की जगह सॉल्वर को परीक्षा दिलवाते हैं। इसके लिए आधार कार्ड पर सॉल्वर की फोटो लगाते हैं और फ्रिंगर प्रिंट का क्लोन तैयार कर लेते हैं। इसके बदले में अभ्यर्थी से मोटी रकम वसूली जाती है।

ट्रेंडिंग वीडियो