दर्जी के बेटे ने वो कर दिखाया, जो अच्छे अच्छों के वश में नहीं

आगरा कैंट निवासी दर्जी के बेटे ने बॉक्सिंग चैम्पियनशिप में गोल्ड मेडल जीता है।

By: धीरेंद्र यादव

Published: 03 Nov 2017, 09:24 AM IST

आगरा। एक दर्जी के बेटे ने वो करके दिखाया है, जो अच्छे अच्छों के वश में नहीं है। आगरा कैंट निवासी दर्जी के बेटा शुरू से ही होनहार था, लेकिन किसी ने सोचा भी नहीं था, कि उसके मुक्के उसे इस मुकाम पर पहुंचा सकेंगे। दर्जी के बेटे ने भारतीय यूथ टैलेन्ट सर्च फैडरेशन बाॅक्सिंग में गोल्ड मेडल जीतकर अपने परिवार ही नहीं, बल्कि आगरा का नाम रोशन किया है। उसकी इस उपलब्धि से परिवार में खुशी का माहौल है। गोल्ड विजेता सुमित ने बताया है कि उसका सपना देश का सबसे बडा बाॅक्सर बनना है। उसका सलेक्शन नवम्बर में होने वाली अन्तराष्ट्रीय भारतीय यूथ टैलेन्ट सर्च फैडरेशन में हो गया है।

सबसे छोटा बेटा है सुमित
आगरा कैन्ट महावीर नगर निवासी रूपेन्द्र राजपूत दर्जी हैं। उनके तीन बेटे हैं, जिनमे सन्दीप राजपूत, प्रदीप राजपूत और सुमित राजूपत हैं। दोनों बड़े बेटे पढ़ाई के के बाद पिता के साथ कपड़े सिलते है। इससे ही वह अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं। इसी बीच उनके छोटे बेटे सुमित ने अपने पिता से बाॅक्सिंग सीखने की बात बोली। बेटे की बात मानकर उन्होने उसे बाॅक्सिंग सीखने के लिए भेज दिया। 20 अक्टूबर को गोवा में हुई भारतीय यूथ टैलेन्ट सर्च फैडरेशन बाॅक्सिंग में उसने भाग लिया। प्रतियोगिता में उसने अच्छा प्रदर्शन कर गोल्ड मेडल जीत लिया। जब इसकी खबर सुमित के परिवार वालों को हुई, तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा। उन्होने अपने बेटे की इस पहली कामयाबी पर मिष्ठान वितरण किया। मेडल लेकर जब सुमित घर आया तो उसका परिजन तथा मित्रों ने फूल मालाओं के साथ स्वागत किया।

ये कहना है सुमित का
सुमित ने बताया कि उसकी पहली कामयबी से वह बहुत खुश है। इसकी वजह से उसका सलेक्शन नवम्बर में होने वाली अन्तराष्ट्रीय भारतीय यूथ टैलेन्ट सर्च फैडरेशन में हो गया है। अब वह इस प्रतियोगिता में इससे भी अच्छा प्रदर्शन करेगा। वह दुनिया का सबसे बडा बाॅक्सर बनना चाहता है। वह अपने देश और परिवार का नाम रोशन करना चाहता है। पिता रूपेन्द्र ने बताया है कि वह बेटे की कामयाबी से बेहद खुश हैं। उनके बेटे ने उनका सिर फर्क से उंचा कर दिया है। उन्हे अपने बेटे पर गर्व है। वह चाहते हैं कि बेटे का हर सपना पूरा हो। पिता ने बताया कि बेटे की हर तरह से पूरा परिवार मदद कर रहा है। उन्हें उम्मीद है कि आगरा के इस होनहार खिलाड़ी के लिए आगरा के लोगों का आशीर्वाद भी उसके साथ है।

धीरेंद्र यादव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned