दिवाली से पहले आगरा में बड़ा हादसा, पटाखों में लगी आग, दो बच्चियों की मौत

यहां के एक व्यापारी के घर में रखे पटाखों में आग लगने से दो बच्चियों की मौत हो गई।

By: धीरेंद्र यादव

Published: 18 Oct 2017, 04:46 PM IST

आगरा। दिवाली से पूर्व आगरा के रुनकता में बड़ा हादसा हुआ है। यहां के एक व्यापारी के घर में रखे पटाखों में आग लगने से दो बच्चियों की मौत हो गई। पटाखों के धुएं में इन दोनों बच्चियों का दम घुट गया। व्यापारी ने अपने घर में पटाखों की दुकान बना रखी थी। यहीं पर आतिशबाजी को रखा गया था।

यहां का है मामला
रुनकता में व्यापारी संजीव अग्रवाल का मकान है। संजीव अग्रवाल के मकान में ही निचले वाले तल उनकी स्टेशनरी की दुकान है। दुकान में ही संजीव अग्रवाल ने पटाखे भी रखे हुए थे। लोगों ने बताया कि बुधवार सुबह संजीव की दुकान में शॉर्ट सर्किट से आग लग गई। इस दुकान में ही पटाखे रखे हुए थे। इससे पटाखों ने चिंगारी पकड़ ली। पटाखों में आग लगते ही संजीव और उसके कर्मचारी दुकान छोड़कर भाग गए। घर में और आसपास भी भगदड़ मच गई। संजीव के परिवार के अन्य लोग भी घर से बाहर निकल आए। आग ने दुकान और मकान को पूरी तरह अपनी कब्जे में ले लिया।

 

बेटियां थी घर के अंदर
घर से बाहर आते ही परिवारीजनों को संजीव की दो बेटी चीनू (8) और वैष्णवी (12) नहीं दिखीं। इस पर उनकी खोजबीन शुरू हुई। पता चला कि दोनों घर के अन्दर हैं, तो सभी के हाथ पांव फूल गए। आग इतनी भयंकर थी कि घर में घुसने की किसी की हिम्मत नहीं हुई। दोनों बच्चियां मकान की दूसरी मंजिल पर फंस गईं। करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद परिवार और आसपास के कुछ लोग दीवार तोड़कर अंदर घुसे। तब तक दोनों की दम घुटने से मौत हो गई।

 

तो नहीं जाती बच्चियों की जान
लोगों का आरोप है कि उन्होंने पुलिस और फायर ब्रिगेड दोनों को फोन किया, लेकिन कोई नहीं पहुंचा। लोगों ने अपने प्रयास से बच्चियों को बाहर निकाला। परिवार वाले उन्हें अस्पताल भी ले गए, लेकिन डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। दिवाली से एक दिन पूर्व हुए इस हादसे ने क्षेत्रीय लोगों को हिला कर रख दिया है। खुशियों की जगह पूरे क्षेत्र में मातम फैला हुआ है।

 

 

धीरेंद्र यादव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned