जिस विधानसभा से विधायक रहे मुलायम सिंह यादव, दिलचस्प है उसकी कहानी...

— उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद जिले की शिकोहाबाद विधानसभा से 1993 में चुनाव जीतकर विधायक बने थे सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव।

By: arun rawat

Published: 22 Feb 2021, 01:14 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

फिरोजाबाद। उत्तर प्रदेश की राजनीति में फिरोजाबाद जिले का कद काफी ऊंचा है। इस जिले को कभी समाजवादी पार्टी का गढ़ कहा जाता था क्योंकि इस जिले में समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव के रिश्तेदार और सगे संबंधी जो रहते हैं। इस विधानसभा का इतिहास काफी रोचक है। राजनीति के हिसाब से ही नहीं बल्कि शिक्षा के क्षेत्र में भी इस छोटी सी विधानसभा का प्रदेश में अपना अलग इतिहास है।
यह भी पढ़ें—

प्रेमिका से वीडियो कॉलिंग करते हुए फांसी पर लटक गया रिक्रूट आरक्षी

शिक्षा के क्षेत्र में सबसे आगे है शिकोहाबाद
कभी मोहम्मद महिन्द्रा के नाम से विख्यात फिरोजाबाद जिले का कस्बा आज शिकोहाबाद के नाम से जाना जाता है। सन् 1952 में अस्तित्व में आई शिकोहाबाद विधानसभा में अभी तक 17 विधायक चुनकर विधानसभा पहुंच चुके हैं। जिला मुख्यालय से करीब 18 किलोमीटर दूर स्थित शिकोहाबाद मुगल काल से अस्तित्व में है। कहने को शिकोहाबाद काफी छोटा कस्बा है लेकिन शिक्षा के क्षेत्र में पूरे जिले के अंदर इस कस्बे का मुकाबला नहीं है। इस कस्बे की शान और शौकत हिंद लैंप फैक्ट्री है। जो कई सदियों से शिकोहाबाद में संचालित हो रही है। इस कस्बे में करीब डेढ दर्जन डिग्री काॅलेज, एक विश्व विद्यालय और करीब डेढ दर्जन फैक्ट्रिया हैं। यहां शिक्षा का स्तर जितना अच्छा है उतना ही इस कस्बे का विकास है। विकास कार्यो के लिहाज से भी शिकोहाबाद अन्य विधानसभाओं से काफी आगे है।
यह भी पढ़ें—

धोखाधड़ी कर एटीएम से रुपए निकालने वाले गैंग का पर्दाफाश, साथी महिला भी गिरफ्तार

यहां औरंगजेब के भाई का था आधिपत्य
शिकोहाबाद पर पूर्व में मुगलों का शासन था। 163 मीटर के क्षेत्रफल में फैला यह कस्बा आज यादव बाहुल्य क्षेत्र माना जाता है। कभी यह झाला वंश के राजाओं की संपत्ति था। मुगल शासक शिकोहाबाद में बैठकर दिल्ली पर राज करते थे। वर्तमान में शिकोहाबाद विधानसभा अपने आप में परिपूर्ण है। शिक्षा से लेकर व्यापार तक का स्तर यहां काफी वृहद है। काफी लंबे समय से चल रही शिकोहाबाद की विख्यात हिंद लैंप फैक्ट्री आज भी संचालित होती है। यहां सैकडों मजदूरों को रोजगार मिलता है। वहीं इस फैक्ट्री से बनने वाले उत्पादों को विदेशों में भेजा जाता है।
यह भी पढ़ें—

बसपा के पूर्व विधायक बेटे समेत सपा में शामिल

सैफई परिवार से जुडने पर हुआ कायाकल्प
यहां के लोग बताते हैं कि जब से मुलायम सिंह यादव ने इस विधानसभा से चुनाव लडा। तभी से इस विधानसभा का कायाकल्प होने लगा। शिकोहाबाद के बृजेश राठौर बताते हैं कि यहां जैसी उच्च शिक्षा आस-पास के जिलों में कहीं भी नहीं है। इस छोटे से कस्बे में एक विश्व विद्यालय और कई डिग्री काॅलेज हैं। इंजीनियरिंग के भी यहां कई काॅलेज संचालित हो रहे हैं। कहते हैं कि शिकोहाबाद जैसी न तो राजनीति किसी और जिले में है और न यहां के जैसा विकास कहीं और। यहां एक से एक धुरंधरों ने मैदान मारा है तो कई चारों खाने चित भी हो गए। यहां वोटर भी काफी जागरूक है। कोई कितने ही झूठे वादे कर ले लेकिन वोट हमेशा उसी को दिया जिसने विकास का मार्ग दिखाया।

ये हैं अभी तक के विधायक
महाराज सिंह, लायक सिंह, मंशाराम, आर स्वरूप, मंशाराम, वीरेन्द्र स्वरूप, गंगा सहाय यादव, जगदीश सिंह, रामनरेश, राकेश कुमार, झाऊलाल यादव, मुलायम सिंह यादव, अशोक यादव, हरीओम यादव, अशोक यादव, ओमप्रकाश वर्मा और अभी मुकेश वर्मा शिकोहाबाद विधानसभा से अभी तक विधायक रह चुके हैं।

आबादी पर एक नजर-
विधानसभा की कुल आबादी करीब साढे नौ लाख
विधानसभा के वोटर- करीब साढे तीन लाख

Show More
arun rawat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned