सैफई परिवार के लाड़लों और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को हराकर भी नहीं बने मंत्री

सैफई परिवार के लाड़लों और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को हराकर भी नहीं बने मंत्री
BJP,Central government,santosh gangwar,bareilly news,modi sarkar,bareilly news in hindi,central minister Santosh Gangwar,MP Santosh Gangwar

Dhirendra yadav | Publish: May, 30 2019 10:09:33 PM (IST) Agra, Agra, Uttar Pradesh, India

एसपी सिंह बघेल को मंत्री बनाए जाने के शुरू से ही लग रहे थे कयास

आगरा। नरेन्द्र मोदी ने एक बार फिर प्रधानमंत्री के रूप में गुरुवार को शपथ ली। उनके साथ ही 48 मंत्रियों को भी शपथ दिलाई गई, लेकिन इन सबके बीच बृज क्षेत्र की 13 में से 12 सीटों पर कमल खिलाने वाले एक सांसद को ही मोदी के मंत्रिमंडल में जगह मिल सकी। हैरत की बात तो ये है कि सैफई परिवार के लाड़लों को हराने और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर को हराने वाले राजकुमार चाहर को भी मोदी टीम में जगह नहीं दी गई।

छीनी सैफई परिवार की जमीन
भारतीय जनता पार्टी ने प्रचंड बहुमत से जीत दर्ज की है। उत्तर प्रदेश में भाजपा के कई बड़े चेहरों ने बड़ी जीत दर्ज की। इस बार बृज की 13 सीटों पर सभी की नजर रही। जिस पर भाजपा के लड़ाकों ने 12 सीटों पर कमल खिलाया। सबसे खास बात तो ये रही, कि सैफई परिवार की जमीन माने जाने वाली फिरोजाबाद लोकसभा और बदायूं लोकसभा पर भी भाजपा ने जीत दर्ज की। फिरोजाबाद से भाजपा सांसद डॉ. चन्द्रसेन जादौन ने समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी और प्रो. रामगोपाल यादव के पुत्र अक्षय यादव को हराया, तो वहीं
बदायूं से भाजपा सांसद डॉ. संघमित्रा मौर्य ने सैफई परिवार के सदस्य धर्मेन्द्र यादव को शिकस्त दी।

सिर्फ चर्चाओं में रहे नाम
लोकसभा चुनाव 2019 में बड़ी जीत दर्ज करने वाले बृज के नेताओं का नाम मोदी के मंत्रिमंडल में जाने को लेकर खूब उछला, लेकिन इन नेताओं को मौका नहीं मिल सका। फतेहपुर सीकरी के सांसद राज कुमार चाहर ने पीएम मोदी से भी बड़ी जीत दर्ज की। उन्होंने उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और फिल्म स्टार राज बब्बर को हराकर नया रिकॉर्ड बनाया है। वहीं आगरा से सांसद प्रो. एसपी सिंह बघेल का नाम भी खूब चर्चाओं में रहा, लेकिन उन्हें मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिल सकी। इसके साथ ही सैफई परिवार की जमीन छीनने वाले फिरोजाबाद के सांसद डॉ. चन्द्रसेन जादौन और बदायूं से सपा की जमीन छीनने वाली संघमित्रा मौर्या को भी मोदी कैबिनेट में स्थान नहीं मिला। इन सब नामों की चर्चा जोरों पर रही। वहीं इस बार चर्चा तो ये भी थी कि मथुरा से लगातार दूसरी बार सांसद चुनी गईं हेमा मालिनी को मोदी की टीम में शामिल किया जा सकता है, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। अलीगढ़ से सतीश कुमार गौतम, एटा से कल्याण सिंह के पुत्र राजवीर सिंह राजू भैया, हाथरस से राजेश दिलेर, पीलीभीत से वरुण गांधी, शाहजहांपुर से अरुण सागर, आंवला से धर्मेन्द्र कश्यप भाजपा सांसद हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned