जानिए हाईस्कूल और इंटर की परीक्षाओं पर क्या बोले डिप्टी सीएम

Abhishek Saxena

Publish: Sep, 16 2018 03:00:08 PM (IST) | Updated: Sep, 16 2018 03:41:04 PM (IST)

Agra, Uttar Pradesh, India

आगरा। हाईस्कूल और इंटर की परीक्षाओं में पिछली बार के मुकाबले इस बार परीक्षार्थी कुछ कम है। डिप्टी सीएम डॉ.दिनेश शर्मा आगरा में थे उनसे ये सवाल किया गया। तो उन्होंने कहा कि इस बार हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षा में पारदर्शिता रखी गई है, आधार कार्डों से सभी छात्रों के फॉर्म लिंक किए गए। सरकारी विद्यालयों में प्राइवेट छात्रों के फॉर्म भरवाए गए, जिससे फर्जी परीक्षार्थियों पर लगाम लगी है। पिछली बार की अपेक्षा इस बार कुछ कम अभ्यर्थी हाईस्कूल और इंटर की परीक्षा में शामिल हुए हैं। इस बार शुचितापूर्ण नकलविहीन परीक्षा के लिए जिलाधिकारी आगरा को 20 सितम्बर पर पूरी कार्ययोजना देने के लिए कहा गया है। उन्होंने कहा कि इस बार बोर्ड की परीक्षाएं सात फरवरी से शुरू होंगी।

जीपीएस से होगी निगरानी
अब तक जो 67 लाख परीक्षार्थियों की पहुंच जाती थी उसमें दस लाख घट कर 57 लाख हो गई है। बोर्ड परीक्षा को सीसीटीवी, जीपीएस के माध्यम से पारदर्शी बनाया जाएगा। सात फरवरी से परीक्षा शुरू हो जाएंगी। भाजपा सरकार में महज एक वर्ष में 205 नये स्कूलों को मान्यता दी गई है, जबकि पिछली सरकार ने पाच साल में केवल 48 स्कूलों को ही मान्यता दी थी। प्रदेश में 166 दीनदयाल उपाध्याय मॉडल स्कूल और 42 अल्पसंख्यक स्कूल खोले गए हैं। 50 कालेज अंतिम प्रक्रिया में हैं और 93 नए डिग्री व माध्यमिक स्कूल खोलने का निर्णय विचाराधीन है। विवि में दीनदयाल शोध संस्थान खोलने को कहा गया है। लखनऊ विवि में भाउराव देवरस शोध संस्थान खोला गया है, जबकि अटलजी के नाम पर शोध संस्थान खोलने पर विचार चल रहा है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned