थाने में मं​दबुद्धि की पिटाई से मौत के बाद मचा हड़कम्प, विधवा मां को सांत्वना देने पहुंचे मेयर

थाना सिकंदरा में पीट पीटकर हुई हत्या के बाद शहरवासियों में आक्रोश

By:

Updated: 25 Nov 2018, 07:10 PM IST

आगरा। मंदबुद्धि राजू गुप्ता की सिकंदरा थाने में पीट-पीटकर हुई हत्या ने पुलिस का एक घिनौना चेहरा शहर वासियों के सामने ला दिया है। पुलिस के इस कृत्य ने सभी को हैरान कर दिया। रविवार को महापौर नवीन जैन और अखिल भारतीय वैश्य एकता परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुमंत गुप्ता अपने प्रतिनिधिमंडल के साथ मृतक राजू गुप्ता के परिजनों से मिलने पहुंचे। महापौर नवीन जैन और परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुमंत गुप्ता ने मृतक राजू गुप्ता के परिजनों और उनकी मां से मुलाकात कर पूरे घटनाक्रम की जानकारी ली और अपनी संवेदनाएं भी व्यक्त की।

सदमे में हैं मृतक की मां
मंदबुद्धि राजू गुप्ता की पुलिस द्वारा पीट-पीटकर हुई हत्या के कारण मृतक की मां सदमे में है तो परिवार के हर सदस्य की आंखों से आंसू रुक नहीं रहे है। महापौर नवीन जैन ने मृतक राजू गुप्ता की मां से जानकारी लेने के बाद तुरंत एसएसपी अमित पाठक से फोन पर वार्ता की और मृतक की मां से दोषी पुलिसकर्मियों की शिनाख्त कराए जाने और दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ 302 का मुकदमा दर्ज करने की मांग की।

agra police

पड़ोसी ने कराया था मुकदमा दर्ज
मृतक राजू गुप्ता के परिजनों ने बताया कि पड़ोसी अंशुल प्रताप और विवेक ने राजू के खिलाफ से सिकंदरा थाने में चोरी का मुकदमा दर्ज कराया जिस पर पुलिस राजू को उठाकर ले गई। इस पूरी कार्रवाई में अंशुल और विवेक के रिश्तेदार जो मथुरा से विधायक हैं उनका पूरा दखल रहा जिसके कारण पुलिसकर्मियों ने मंदबुद्धि राज गुप्ता पर कहर बरपाया और उसकी पुलिस हिरासत में ही मौत हो गई। मृतक राजू गुप्ता की मां ने महापौर नवीन जैन को बताया कि सिकंदरा थाने में उन्हीं के सामने उनके बेटे को बेरहमी कैसे मारा पीटा गया और जब वह मरणासन्न स्थिति में आ गया तो इलाज कराने के बहाने उसे थाने से बाहर ले गए। इस बीच उन्हें किसी को फोन भी करने नहीं दिया और डरा धमका कर चुप करा दिया। अब आरोपी पुलिसकर्मी आरोपी अंशुल और विवेक और उसके रिश्तेदार इस मामले में समझौता बनाने के लिए दबाव बना रहे है। मृतक राजू गुप्ता की मां ने साफ कहा है कि वह अपने बेटे की मौत का सौदा नहीं करेंगी और दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ 302 का मुकदमा दर्ज करा सलाखों के पीछे पहुंचाने का प्रयास करती रहेंगी।

मेयर बोले ये पुलिस का एक घिनौना चेहरा
मृतक राजू गुप्ता के परिजनों से मुलाकात करने के बाद महापौर नवीन जैन का कहना था कि आगरा पुलिस का एक घिनौना चेहरा सामने आया है। एक मंदबुद्धि को चोरी के आरोप में बेरहमी से पीट कर उसकी जान ले ली गई और एक माँ से उसका इकलौता सहारा छीन लिया गया जबकि उसके पास चोरी का एक रुपया तक नहीं मिला। इस मामले की शिकायत वह खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से करेंगे और मृतक राजू गुप्ता को इंसाफ दिलाने के लिए हर संभव लड़ाई लड़ेंगे।

पुलिस अब भक्षक बन गई
अखिल भारतीय वैश्य एकता परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुमंत गुप्ता का कहना था कि जिस पर लोगो की रक्षा की जिम्मेदारी है वो पुलिस अब भक्षक बन गई है। राजू गुप्ता को इंसाफ दिलाने और दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ 302 का मुकदमा दर्ज कराने के लिए हर स्तर तक लड़ाई लड़ी जाएगी अगर पुलिस प्रशासन ने उन्हें बचाने का प्रयास किया तो ईट का जवाब पत्थर से दिया जाएगा।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी हुआ खुलासा
अखिल भारतीय वैश्य एकता परिषद युवा इकाई के राष्ट्रीय अध्यक्ष विनय अग्रवाल का कहना था कि मृतक राजू गुप्ता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी साफ है कि उसे बुरी तरह से पीटा गया है उसके शरीर पर चोटों के निशान भी हैं जो पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े करते हैं मृतक राजू गुप्ता को इंसाफ दिलाने के लिए आगरा से लखनऊ और दिल्ली तक लड़ाई लड़नी पड़ी तो लड़ी जाएगी। प्रतिनिधि मंडल में संजय अग्रवाल,कृष्ण कुमार गोयल, शैलू अग्रवाल,जितेंद्र अग्रवाल, वीरेंद्र गुप्ता, दया गुप्ता शैलेन्द्र गुप्ता डॉ. राकेश गुप्ता मौजूद रहे।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned