केजीएमयू की टीम का निरीक्षण था, इसलिए बदले हुए मिले हालात

इमरजेंसी का किया निरीक्षण, जब भी होता है स्पेशल दौरा तभी निकलता है यहां सारा सामान।

By:

Updated: 11 Sep 2017, 01:48 PM IST

आगरा। मरीजों के लिए चिकित्सकीय व्यवस्थाएं बेहतर करने के लिए योगी सरकार ने कई निर्देश जारी जरूर किए हैं। लेकिन उनका लाभ आम मरीज को तभी मिलता है, जब कोई दौरा करने आता है। अन्यथा तो वो भटकने को मजबूर रहता है।

कुछ ऐसा था नजारा
सुबह समय दस बजकर पचास मिनट पर जब एसएन की इमरजेंसी में मरीजों के पलंग पर धुली हुईं चादरें पड़ी थी। फर्श पर करीने से सफाई की गई थी। पूरे हॉल में गंदगी को साफ किया गया था। मरीजों के पलंग पर लगने वाली भीड़ सोमवार को नहीं दिख रही थी। एक मरीज के साथ एक ही तीमारदार पलंग पर था। अधिकांश पलंग भी खाली कर दिए गए थे। जो मरीज पहले से भर्ती थे, वे संबंधित विभागों के वार्डों में शिफ्ट किए जा चुके थे। वैसे तो पत्रिका टीम औचक निरीक्षण करने पहुंची थी, लेकिन सोमवार को योगी सरकार द्वारा गठित की गई केजीएमयू की टीम भी आगरा में थी। जिसके चलते मरीजों को कई सुविधाओं से रूबरू कराया गया था।

टीम भी पहुंची हैं आगरा
योगी सरकार ने गोरखपुर हादसे के बाद पूरे प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाएं सुधारने का दावा किया गया था। लेकिन, फिर भी फर्रूखाबाद जैसी घटना हो गयी। 11 सितंबर को विश्व प्राथमिक चिकित्सा दिवस के रूप में जाना जाता है। इस दिन पत्रिका आगरा टीम ने एसएन की इमरजेंसी में इलाज के हालातों का जायजा लिया। यहां प्राथमिक चिकित्सा पर सोमवार को डॉक्टरों की टीम मौजूद दिखाई दी। अमूमन इमरजेंसी में मरीजों को एडमिट करने के बाद तुरंत इलाज मिल जाता हैं, ऐसा ही कुछ यहां भी देखने को मिला। एक मरीज के इमरजेंसी पहुंचने पर उसे आनन फानन में डॉक्टरों की टीम कागजी कार्रवाई पूरी कर इलाज शुरू कर दिया। हालांकि सोमवार को कुछ अलग भी था। यहां केजीएमयू के कुलपति के नेतृत्व में एक पांच सदस्यीय टीम भी पहुंची थी। जिसके चलते कई सारी सुविधाएं मरीजों को मिल रही थीं।

छोटी कमियां दूर हो रहीं
इस मामले में जब प्राचार्य डॉ.सरोज सिंह से बातचीत की गई, तो उन्होंने कहा कि एसएन मेडिकल कॉलेज बहुत ही बड़ा कॉलेज है। सभी विभागों में वैसे तो चुस्त दुरुस्त इंतजाम हैं। लेकिन यदि कोई छोटी कमी हैं भी तो उसे दूर किया जा रहा है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned