अहमदाबाद में 156 निजी अस्पतालों में कोरोना उपचार के लिए 2 वेंटिलेटर ही खाली

कोरोना को लेकर अहमदाबाद में भयावह हालात, 96 फीसदी बेड हो चुके हैं फुल

By: MOHIT SHARMA

Updated: 16 Apr 2021, 11:34 PM IST

अहमदाबाद. कोरोना की गंभीर स्थिति के चलते गुजरात के सबसे बड़े शहर अहमदाबाद में हालात विकट होते जा रहे हैं। यहां न सिर्फ सरकारी और महानगरपालिका संचालित अस्पतालों में मुश्किल से बेड उपलब्ध हो रहे हैं बल्कि शहर के निजी अस्पतालों में भी 96 फीसदी बेड फुल हो गए हैं। चार फीसदी जो बचे हैं उनमेें भी सिर्फ वेंटिलेेटर के बेड दो ही हैं।
अहमदाबाद हॉस्पिटल एंड नर्सिंग होम एसोसिएशन (एएचएनएचए) के अनुसार बताया कि शुक्रवार सुबह से शहर के 156 निजी अस्पतालों में कोरोना के लिए 5488 बेड उपलब्ध किए गए, लेकिन कोरोना के चलते तेजी से बढ़ रहे मरीजों से 96 फीसदी के आसपास बेड भर गए हैं। इन अस्पतालों में आइसोलेशन के 2083 बेड की क्षमता है और 1914 बेड फुल हो गए हैं। इसी तरह से एचडीयू के कुल 2135 बेड में से 103 ही खाली हैं। इसी तरह से आईसीयू (बिना वेंटिलेटर) के 855 में से 2 और वेंटिलेटर के साथ आईसीयू वाले कुल 405 बेड में से दो ही खाली हैं।
हालांकि पता चला है कि कोरोना की भयावहता के कारण बेड नहीं मिलने के चलते अहमदाबाद से एक बड़ी कंपनी के शीर्ष अधिकारी को चार्टर्ड प्लेन को जयपुर जाना पड़ा है। सभी अस्पताल में
बेड की कमी
एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. भरत गढ़वी ने बताया कि शहर के सभी अस्पतालों में बेड की कमी काफी खल रही है। इसके कारण लोगों को अन्य जगहों पर भी उपचार काने की नौबत आ रही है।

COVID-19
MOHIT SHARMA
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned