प्रदेश के ४१ बांधों में चली चादर, ५२ बांध हाईअलर्ट

प्रदेश के ४१ बांधों में चली चादर, ५२ बांध हाईअलर्ट

Omprakash Sharma | Publish: Aug, 13 2019 10:56:21 PM (IST) Ahmedabad, Ahmedabad, Gujarat, India

सरदार सरोवर बांध का जलस्तर १३२ मीटर के करीब

अहमदाबाद. प्रदेश में भारी बारिश के चलते बांधों में लगातार जलस्तर बढ़ रहा है। राज्य के प्रमुख २०४ बांधों में से मंगलवार सुबह तक ६९ बांधों में पानी ७० फीसदी से अधिक होने के कारण निचले इलाकों मेें रहने वाले लोगों को सर्तक रहने के आदेश दिए हैं। इनमें से ४१ बांधों में चादर भी चली हुई है। राज्य के सबसे बड़े सरदारसरोवर बांध में मंगलवार सुबह जलस्तर १३१.८४ मीटर पर पहुंच गया। फिलहाल इस विशाल बांध में क्षमता के मुकाबले ७७.८४ फीसदी जल संग्रह हो गया है।
राज्य के सरदार सरोवर समेत प्रमुख २०५ बांधों की जलभराव की क्षमता २५२२४ मिलियन क्यूबिक मीटर(एमसीएम) है। जिसके मुकाबले मंगलवार तक १८१९८.६० एमसीएम पानी का संग्रह हो गया। यह औसत संग्रह ७२.१५ फीसदी है। अकेले सरदार सरोवर बांध में ७३४४.३१ एमसीएम पानी का संग्रह हो गया है, जिसे बेहतर स्थिति माना जा रहा है। बांध में क्षमता के मुकाबले ग्रॉस संग्रह ७७.६४ फीसदी पानी का संग्रह है। वैसे देखा जाए तो अभी भी उत्तर गुजरात के चार जिलों में स्थित बांधों में संग्रह की स्थिति ज्यादा ठीक नहीं है। इन बांधों में अभी भी ग्रॉस संग्रह बीस फीसदी भी नहीं है। लाइव (उपयोग किए जाने वाले) पानी का संग्रह भी १४ फीसदी से कम है। राज्य में रीजन के आधार पर देखा जाए तो सबसे अच्छी स्थिति मध्य गुजरात की है। जहां के बांधों में क्षमता का ९० फीसदी पानी का संग्रह हो गया है। इसी तरह से दक्षिण गुजरात के छह जिलों में लगभग ७३ फीसदी पानी का संग्रह हुआ है। कच्छ रीजन के बांधों में पिछले कुछ दिनों में तेजी से संग्रह हुआ है। फिलहाल इन बांधों में ५७ फीसदी से अधिक संग्रह हो चुका है।
सौराष्ट्र रीजन में ग्यारह जिलों के बांधों में क्षमता का लगभग ६९ फीसदी पानी का संग्रह हुआ है। सरदार सरोवर समेत मंगलवार तक सभी बांधों में ७२ फीसदी संग्रह हुआ है।
४१ बांधों में चादर चली
राज्य के प्रमुख बांधों में से ४१ में क्षमता का सौ फीसदी पानी का संग्रह हो चुका है। जबकि नब्बे फीसदी से अधिक संग्रह ५३ बांधों मेें हैं। इनमें से बाणकवोरी बांध को छोड़कर ५२ बांधों को हाईअलर्ट घोषित किया गया है।दस बांधों में अस्सी फीसदी से अधिक और नब्बे फीसदी से कम पानी का संग्रह होने से उन्हें अलर्ट पर रखा गया है तो सात बांधों में ७० फीसदी से लेकर अस्सी फीसदी तक जल संग्रह है। इन्हें वार्मिंग पर रखा गया है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned