पीलिया के ५३७ व टाइफाइड के ५२५ मरीज

पीलिया के ५३७ व टाइफाइड के ५२५ मरीज

Omprakash Sharma | Publish: Sep, 04 2018 10:03:33 PM (IST) Ahmedabad, Gujarat, India

एक महीने में अहमदाबाद में...

पिछले वर्ष से ढाई गुना हो गई मरीजों की संख्या

अहमदाबाद. शहर में बारिश के मौसम में जलजनित रोगों का उपद्रव बढ़ता ही जा रहा है। पिछले वर्ष के अगस्त माह की तुलना में पीलिया और टाइफाइड के मरीजों की संख्या लगभग ढाई गुना अधिक तक पहुंच गई।
अहमदाबाद शहर में भले ही महानगरपालिका की ओर से रोग नियंत्रण के उपायों का दावा किया जा रहा हो लेकिन स्थिति कुछ अलग ही है। इस वर्ष जलजनित रोग पीलिया के मरीजों की संख्या बढ़कर ५३७ हो गई है। पिछले वर्ष अगस्त माह में इन रोगियों की संख्या २१६ थी। इसी तरह से टाइफाइड रोग के मरीजों की संख्या इस वर्ष अगस्त माह में सवा पांच सौ सामने आई है जो पिछले वर्ष २३८ थी। जबकि हैजा के मरीजों की की संख्या बारह गुना अधिक तक पहुंच गई। पिछले वर्ष पूरे माह में दर्ज हुए तीन रोगियों के मुकाबले शहर में ३६ मरीज हैजा के दर्ज हुए। शहर के पूर्व क्षेत्रों में इस तरह के रोगियों की संख्या अधिक है। हालांकि उल्टी दस्त के मरीजों की संख्या पिछले वर्ष की तुलना में कुछ कम है। पिछले वर्ष उल्टीदस्त के मरीजों की संख्या ८५७ थी जबकि इस वर्ष इनकी संख्या ७८७ है।
एक सप्ताह में बढ़े डेंगू के ५६ मरीज
शहर में मच्छरजनित रोगों के मरीजों की संख्या भी तेजी से बढ़ी है। शहर के विविध भागों में एक सप्ताह में डेंगू के ५६ मरीज बढ़े हैं। एक सप्ताह पूर्व अर्थात बीस इक्कीस दिनों में शहर के विविध अस्पतालों में डेंगू के ९५ मरीजों की पुष्टि हुई थी जो ३१ दिनों में बढ़कर १५१ पर पहुंच गई। पिछले वर्ष अगस्त माह में डेंगू के मरीजों की संख्या १३२ थी। इस वर्ष मलेरिया के मरीजों की संख्या १९०२, फाल्सीफेरम के २९२ तथा चिकनगुनिया के ७ मरीजों की पुष्टि हुई है।
५.८६ लाख किलो कीटनाशक का छिड़काव
महानगरपालिका के स्वास्थ्य विभाग के अनुसार शहर में रोगों के नियंत्रण के लिए विविध उपाय किए जा रहे हैं। पिछले एक माह में जहां ५.८६ लाख किलो कीटनाशक का छिड़काव किया गया वहीं सवा ग्यारह लाख से अधिक क्लोरीन की गोलियों का वितरण किया गया। इसके अलावा शहर के प्रभावित क्षेत्रों में क्लोरीन के ३७ हजार से अधिक टेस्ट कि गए। इस समय अवधि णएँ पानी के ३२६३ नमूने लिए गए। अन्य कार्रवाई करने का भी दावा किया गया।

Ad Block is Banned