scriptगुजसेल के तत्कालीन सीईओ अजय चौहान विरुद्ध एसीबी ने दर्ज किया मामला | Patrika News
अहमदाबाद

गुजसेल के तत्कालीन सीईओ अजय चौहान विरुद्ध एसीबी ने दर्ज किया मामला

चौहान पर सत्ता का दुरुपयोग कर 72 लाख से ज्यादा का घोटाला करने का आरोप है। गुजसेल के अकाउंटेंट व एक एविएशन कंपनी के निदेशक को भी आरोपी बनाया है।

अहमदाबादJun 12, 2024 / 09:58 pm

nagendra singh rathore

ACB Gujarat

गुजरात एसीबी मुख्यालय।

गुजरात भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने गुजरात स्टेट एविएशन इन्फ्रास्ट्रक्चर कंपनी लिमिटेड (गुजसेल) के तत्कालीन मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) कैप्टन अजय चौहान के विरुद्ध अहमदाबाद शहर एसीबी थाने में भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया है। चौहान फिलहाल निलंबित चल रहे हैं। उनके साथ गुजसेल के अकाउंटेंट अल्पेशकुमार प्रजापति और केशमेक एविएशन प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक अल्पेश त्रिपाठी को भी आरोपी बनाया गया है।
एसीबी के तहत आरोपी कैप्टन अजय चौहान पर आरोप है कि उन्होंने उनके कार्यकाल के दौरान मुख्यमंत्री व राज्य सरकार के अन्य महानुभावों के लिए खरीदे गए विमान (एयरक्राफ्ट) में सत्ता का दुरुपयोग करते हुए किसी प्रकार की सरकारी मंजूरी के बिना कई बार अपने परिजनों को हवाई सफर कराया। ऐसा कर सरकार को आर्थिक नुकसान पहुंचाया। इसके अलावा गुजसेल के अलावा वे अन्य कंपनी को फ्लाइंग ड्यूटी की सेवा नहीं दे सकते हैं। यह बात जानते हुए भी उन्होंने आर्यन एविएशन प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में फ्लाइंग ड्यूटी की सेवा दी। इसके एवज में उन्होंने आर्थिक लाभ लिया। चौहान सिविल एविएशन निदेशक के रूप में 2004 में जुड़े थे। जनवरी 2010 में उन्हें गुजसेल सीईओ की जिम्मेदारी सौंपी गई। वे फरवरी 2023 तक करीब 13 साल तक इस महत्वपूर्ण पद पर कार्यरत रहे। इनके विरुद्ध मिली गंभीर शिकायतों के चलते उन्हें फरवरी 2023 में निलंबित किया गया।

गैरकानूनी रूप से करार कर लिया आर्थिक लाभ

गुजसेल में मैन पावर के लिए उन्होंने केशमेक एविएशन प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के साथ गैर कानूनी रूप से करार किया। केशमेक एविशएन के निदेशक अल्पेश त्रिपाठी के साथ मिलकर ठेके पर कर्मचारी को नौकरी देने के नाम पर अल्पेश की कंपनी के पास से 10 लाख रुपए लेने का आरोप है। गुजसेल के अकाउंटेंट अल्पेश प्रजापति ने भी खुद केशमेक कंपनी का कर्मचारी नहीं होने, उन्हेें कोई अधिकार न होने के बावजूद भी कैप्टन अजय चौहान और अल्पेश त्रिपाठी के साथ मिलीभगत करते हुए केशमेक कंपनी के चार लाख 60 हजार रुपए कीमत के बिलों में हस्ताक्षर किए। इस हस्ताक्षर किए गए बिल की राशि प्राप्त की।

पीआई बने शिकायतकर्ता

एसीबी के तहत इन तीनों ही आरोपियों ने एक साथ मिलकर, एक दूसरे की मदद करते हुए अपनी सत्ता का दुरुपयोग करते हुए 72 लाख रुपए का भ्रष्टाचार किया है। ऐसा कर सरकार को चपत लगाई है। मामले की प्रारंभिक जांच करते हुए अहमदाबाद एसीबी थाने के पीआई डी एन पटेल ने चौहान सहित तीन लोगों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की है। जल्द ही इस मामले में चौहान व अन्य की गिरफ्तारी भी हो सकती है।

Hindi News/ Ahmedabad / गुजसेल के तत्कालीन सीईओ अजय चौहान विरुद्ध एसीबी ने दर्ज किया मामला

ट्रेंडिंग वीडियो