Gujarat News : गुजरात के 123 बांध छलके, 162 हाई अलर्ट

Gujarat News : गुजरात के 123 बांध छलके, 162 हाई अलर्ट
File photo

Omprakash Sharma | Updated: 06 Oct 2019, 10:44:00 PM (IST) Ahmedabad, Ahmedabad, Gujarat, India

नर्मदा समेत सभी बांधों में औसतन 96.51 फीसदी संग्रह

अहमदाबाद. गुजरात में मानसून की हो चुकी लगभग १२१ फीसदी बारिश के चलते बांधों में लगातार जल संग्रह बढ़ रहा है। रविवार सुबह तक प्रमुख २०४ बांधों में से १२३ बांध छलक भी गए हैं। जबकि ९० से १०० फीसदी संग्रह होने पर १६३ बांध हाईअलर्ट घोषित किए गए हैं। फिलहाल राज्य के सरदार सरोवर (नर्मदा) बांध समेत २०५ बांधों में औसत संग्रह ९६.५१ फीसदी के करीब हो गया।
गुजरात के नर्मदा समेत प्रमुख २०५ बांधों में जल संग्रह की स्थिति पर नजर डालें तो क्षमता का ९६.५१ फीसदी जल संग्रह हो गया है। राज्य के सभी बांधों में संग्रह की क्षमता २५२२४.१६ मिलियन क्यूबिक मीटर (एमसीएम) है। इसकी तुलना में रविवार सुबह तक २४३४३.७० एमसीएम जल संग्रह हो गया है। राज्य के सबसे बड़े सरदार सरोवर (नर्मदा ) में जल संग्रह की क्षमता ९४६० एमसीएम है। इसके मुकाबले रविवार सुबह तक ९३५०.५० एमसीएम जल संग्रह दर्ज किया गया जो ९८.८४ फीसदी है। बांध का जलस्तर १३८.३४ मीटर तक रहा। बांंध का भराव जलस्तर १३८.६८ मीटर है।
उत्तर गुजरात में ७६.०१ तो मध्य और दक्षिण गुजरात में सबसे अधिक
प्रदेश में इस बार बांधों में संग्रह की स्थिति बेहतर है। फिर भी सबसे कम जलसंग्रह उत्तर गुजरात रीजन के बांधों में हो पाया है। इस रीजन के चार जिलों में बांधों की जलसंग्रह क्षमता १९२२.२६ एमसीएम है जिसके मुकाबले अब तक १४६१.१७ एमसीएम जल संग्रह हो गया जो ७६.०१ फीसदी है। वहीं मध्य गुजरात के पांच जिलों के बांधों में रविवार सुबह तक जल संग्रह ९९.४९ फीसदी जल संग्रह हो गया है। इस रीजन के बांधों में कुल संग्रह क्षमता २३४७.३६ एमसीएम के मुकाबले अब तक २३३५.३६ एमसीएम हो गया है। दक्षिण गुजरात के छह जिलों के बांधोंं में ८६२४.७८ एमसीएम की क्षमता के मुकाबले ८५९०.९५ एमसीएम जल संग्रह हो चुका है। यह ९९.५१ फीसदी औसत संग्रह है
इस बार कच्छ रीजन के बांधों में भी ७६.५० फीसदी जल संग्रह हो चुका है। रीजन के बांधों में जल संग्रह की ३३२.२७ एमसीएम की क्षमता है। इसके मुकाबले अब तक २५४.१८ एमसीएम जल संग्रह हो गया है। सौराष्ट्र के ग्यारह जिलों के बांधों में २५३७.४९ एमसीएम जल संग्रह की क्षमता है। इसकी तुलना में रविवार सुबह तक २३५१.५४ एमसीएम जल संग्रह हो गया है, जो क्षमता का ९५.११ फीसदी है।
१६२ बांधों में ९० फीसदी से अधिक संग्रह
प्रदेश के २०४ बांधों में से १६२ बांधों में जल संग्रह ९० से लेकर १०० फीसदी जल संग्रह हो गया है। इन सभी को हाईअलर्ट घोषित किया गया है। इनमें से १२३ ओवरफ्लो भी हो गए हैं। इसके अलावा सात बांधों में जल संग्रह ८० से लेकर ९० फीसदी होने पर अलर्ट और इतने ही बांधों में ७० से ८० फीसदी जल संग्रह होने पर होने पर वार्निंग के रूप में दर्शाया गया है। राज्य के २८ बांध ही ऐसे हैं जिनमें जल संग्रह ७० फीसदी से कम हुआ है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned