देश में पहली बार हृदय रोगियों के लिए टेली कार्डियोलॉजी सेवा शुरू करेगा गुजरात

Ahmedabad, Cardiac, teleservices, ICU on wheels, Deputy CM Nitin patel, Child heart hospital -अहमदाबाद में कार्यरत हुआ है देश का पहला बाल हृदय रोग हॉस्पिटल

By: nagendra singh rathore

Updated: 25 Oct 2020, 09:10 PM IST

अहमदाबाद. देश के पहले बाल हृदय रोग हॉस्पिटल के शनिवार को अहमदाबाद सिविल अस्पताल परिसर स्थित यू.एन.मेहता हॉस्पिटल में कार्यरत होने के बाद अब गुजरात देश में पहली बार हृदय रोगियों की बेहतरी के लिए टेली कार्डियोलॉजी सेवा शुरू करने की योजना बना रहा है। इतना ही नहीं आईसीयू ऑन व्हील्स की योजना भी हृदय रोगियों के लिए शुरू की जाएगी। टेली कार्डियोलॉजी सेवा भी शुरू होगी। जिसका लाभ दूर दराज के क्षेत्रों में रहने वाले लोग ले सकेंगे।
इसकी घोषणा शनिवार को बाल हृदय रोग अस्पताल का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ओर से ई-लोकार्पण करने के बाद राज्य के स्वास्थ्य मंत्री एवं उपमु यमंत्री नितिन पटेल की।
उन्होंने कहा कि यू.एन.मेहता अस्पताल की क्षमता को भी 450 बेड से बढ़ाकर 1251 बेड किया गया है, जिससे हृदय रोग के मरीजों को अब उपचार के लिए इंतजार करने की जरूरत बिल्कुल भी नहीं बढ़ेगी।
उन्होंने कहा कि यू.एन.मेहता अस्पताल परिसर के अंदर ही बच्चों के लिए ४७० करोड़ रुपए की लागत से अलग से बाल हृदय रोग सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल शुरू की गई है। इसका लाभ देशभर के लोग उठा सकेंगे। यह देश की पहली बाल हृदय रोग सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल है। इस अस्पताल में हार्ट और फेफड़े के ट्रांसप्लांट की सुविधा भी मिलेगी। इसमें १५ कार्डियाक ऑपरेशन थियेटर हैं। पांच कार्डियाक कैथलेब हैं। एक हाईब्रिड कार्डियाक ऑपरेशन थियेटर के साथ कैथलेब भी है। १७६ बालक एवं सर्जिकल मेडिकल आईसीयू बेड हैं। ३५५ बड़े लोगों के लिए आईसीयू बेड हैं।
यहां अन्य किसी अस्पताल में नहीं है ऐसी पीडियाट्रिक कैथलेब एवं मॉड्यूलर ऑपरेशन थियेटर हैं। हाई फ्रिक्वेंसी के वेंटिलेटर हैं। ४५० दुपहिया और ३५० से ज्यादा कारों के पार्किंग की सुविधा है।

आयुष्मान भारत के साथ मा एवं मा वात्सल्य योजना का एकीकरण

उपमु यमंत्री नितिन पटेल ने कहा कि गुजरात सरकार ने आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री स्वास्थ्य योजना, मु यमंत्री अमृतम योजना और मु यमंत्री वात्सल्य योजना का एकीकरण कर दिया है। अभी तक मा औ मा वात्सल्य कार्ड धारक राज्य के लोगों को मु त चिकित्सा सेवा का लाभ दिया दिया जाता था। अब इसे आयुष्मान भारत के साथ जोड़ दिया है। जिससे इन तीनों में से कोई कार्ड, आधारकार्ड ले जाने पर पांच लाख तक का नि:शुल्क उपचार चिन्हित अस्पतालों में लोगों का किया जाएगा।

nagendra singh rathore
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned