scriptAhmedabad, Crime branch, MD Drugs, mini lab, 4 more arrested, | नववर्ष से पूर्व क्राइम ब्रांच का बड़ा खुलासा: अहमदाबाद के नवा नरोडा में बनाई जा रही थी एमडी ड्रग्स | Patrika News

नववर्ष से पूर्व क्राइम ब्रांच का बड़ा खुलासा: अहमदाबाद के नवा नरोडा में बनाई जा रही थी एमडी ड्रग्स

Ahmedabad, Crime branch, MD Drugs, mini lab, 4 more arrested, फ्लैट में लिफ्ट के छत के हिस्से पर बना रखी थी मिनी लैब, क्राइम ब्रांच ने ड्रग्स बनाने वाले व मुख्य सप्लायर को पकड़ा, दो ड्रग्स पैडलर भी दबोचे गए, अन्य दो के नाम का चला पता

अहमदाबाद

Published: December 25, 2021 08:50:31 pm

अहमदाबाद. अहमदाबाद शहर क्राइम ब्रांच ने नववर्ष से पहले नशीले पदार्थों की तस्करी, बिक्री व ड्रग्स पैडलर के नेटवर्क को लेकर बड़ा खुलासा किया है।
क्राइम ब्रांच के अनुसार शहर के नवा नरोड़ा इलाके में अवैध रूप से मेथाएम्फेटामाइन (एमडी ड्रग्स) को बनाया जा रहा था। नवा नरोडा में आर पी वछाणी स्कूल के सामने स्थित राधेश्याम रेसिडेंसी नाम के फ्लैट में लिफ्ट के छत के हिस्से पर मिनी लैब बना रखी थी। इस फ्लैट में रहकर एमडी ड्रग्स बनाने वाले बिपिन पटेल नाम के व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया है। इस मिनी लैब में एफएसएल टीम की ओर से की गई जांच में ड्रग्स बनाने से जुड़े पदार्थ व अन्य सबूत मिले हैं। करीब छह महीने से यहां ड्रग्स बनाई जा रही थी।
बिपिन पटेल को ड्रग्स बनाने के लिए जरूरी सामग्री उपलब्ध कराने वाले व एमडी ड्रग्स के मुख्य सप्लायर वैष्णोदेवी सर्कल के पास रहने वाले पंकज उर्फ पको पटेल को भी गिरफ्तार कर लिया गया है।
इसके अलावा इस एमडी ड्रग्स को युवाओं तक पहुंचाने वाले दो ड्रग्स पैडलर जुहापुरा संकलितनगर निवासी मोइनुद्दीन ऊर्फ बोखो शेख तथा रिलीफरोड़ रिलीफ अपार्टमेंट निवासी वजीउद्दीन उर्फ वज्जू शेख को भी पकडऩे में सफलता मिली है। दो और ड्रग्स पैडलर के नाम का पता चला है। जिसमें मुजुब्बिल पठान और दानिश शामिल हैं।
नववर्ष से पूर्व क्राइम ब्रांच का बड़ा खुलासा: अहमदाबाद के नवा नरोडा में बनाई जा रही थी एमडी ड्रग्स
नववर्ष से पूर्व क्राइम ब्रांच का बड़ा खुलासा: अहमदाबाद के नवा नरोडा में बनाई जा रही थी एमडी ड्रग्स
18 दिन में पूरे नेटवर्क का खुलासा
क्राइम ब्रांच के अनुसार सात दिसंबर को थलतेज न्यूयोर्क टावर गली में आरोही अपार्टमेंट से रवि शर्मा नाम के युवक को 23.86 ग्राम एमडी ड्रग्स (मेथाएम्फेडामाइन) के साथ गिरफ्तार किया था। उसके 18 दिन में इस पूरे नेटवर्क का खुलासा किया है। जिसके तहत आठ दिसंबर को त्रागड रोड सागा फ्लैट के पास से असित कुमार पटेल को 50 ग्राम मेथाएम्फेटामाइन के साथ पकड़ा था। इसके बाद 13 दिसंबर को पटवा शेरी मौदीन की चाली निवासी मो. अलताफ शेख को 23 ग्राम एमडी ड्रग्स के साथ पकड़ा। इन तीनों ही आरोपियों की पूछताछ में पता चला कि यह सभी एक ही नेटवर्क का हिस्सा हैं। जिससे इस मामले की जांच में और गंभीरता बरतते हुए टीमें बनाई गईं।
यूं खुलीं नेटवर्क की पर्तें
रवि शर्मा की पूछताछ में सामने आया कि वह एमडी ड्रग्स को असित पटेल के पास से 11 सौ-12 सौ रुपए प्रति एक ग्राम के भाव से लेता है। अपना मुनाफा जोडकऱ इसे वैष्णोदेवी, थलतेज इलाके में चाय की किटली, पान पार्लरों के पास युवाओं को बेचता है। असित माणसा में मेडिकल स्टोर चलाता था। वह हॉलसॉल मेडिकल सप्लायर भी था। असित के अहमदाबाद शिफ्ट होने के दौरान वह रवि के संपर्क में आया। उसे पता चला कि रवि ड्रग्स का सेवन करता है, जिससे उसने रवि को एमडी ड्रग्स देने की शुरुआत की। असित और मुख्य ड्रग्स सप्लायर पंकज पटेल की मुलाकात जून 2021 में चराडा हेल्थ सेंटर हुई थी। पंकज को कोरोना हुआ था। वह इस हेल्थ सेंटर पर पहुंचा था। पंकज छत्राल के बिलेश्वरपुरा में स्थित प्राइड ड्रग्स एंड फार्मास्युटिकल कंपनी में 2018 से एक्जीक्यूटिव के रूप में काम करता था। पंकज और असित अक्सर मिलते। इस दौरान उसने असित से एमडी ड्रग्स बनाने की बात की। पंकज के साथ फार्मा कंपनी में नौकरी कर चुके बिपिन पटेल के बारे में बताया और बिपिन से इस बारे में बात की। बिपिन पटेल छत्राल के बिलेश्वरपुरा में स्थित ओसवाल कैमिकल कंपनी में छह महीने से टेक्निकल मैनेजर है। वह ड्रग्स एंड कैमिस्ट्री विषय में स्नातक है। बीएससी, एमएससी तक पढ़ा है। एक फार्मा कंपनी में प्रोड्क्शन मैनेजर रहा है। जिससे पंकज जरूरी सामग्री बिपिन को देता और उसके जरिए बिपिन पटेल अपने घर पर एमडी ड्रग्स बनाता। पंकज को यह जरूरी सामग्री असित उपलब्ध कराता था।
400 रुपए प्रतिग्राम में बेचते, ग्राहकों से दो हजार वसूलते
क्राइम ब्रांच की जांच में सामने आया कि पंकज पटेल असित के जरिए जरूरी सामग्री प्राप्त करता उसे बिपिन पटेल को देता जिसके जरिए अन्य सामग्री की मदद से बिपिन पटेल एमडी ड्रग्स उसके घर पर तैयार करता। उसे प्रति ग्राम 400 की कीमत पर पंकज पटेल को देता था। पंकज इसे फिर असित को देता और असित इसे रवि को देता। रवि इसे मोइनुद्दीन व वजीउद्दीन को देता था। मोइनुद्दीन व वजीउद्दीन इस ड्रग्स के ग्राहकों से दो हजार रुपए प्रति ग्राम वसूलते थे। इसे जुहापुरा, रिलीफ रोड व अन्य इलाकों पर बेचते। रवि कभी मोइनुद्दीन से ड्रग्स खरीदता था।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: आज इंडिया गेट पर सुभाष चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा का PM Modi करेंगे लोकार्पणCovid-19 Update: भारत में कोरोना के 3.37 लाख नए मामले, मौत के आंकड़ों ने तोड़े सारे रिकॉर्डUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारU19 World Cup: कौन है 19 साल का लड़का Raj Bawa? जिसने शिखर धवन को पछाड़ रचा इतिहासSubhash Chandra Bose Jayanti 2022: पढ़ें नेताजी सुभाष चंद्र बोस के 10 जोशीले अनमोल विचारछत्तीसगढ़ में 24 घंटे में 11 कोरोना मरीजों की मौत, दुर्ग में सबसे ज्यादा 4 संक्रमितों की सांसें थमी, ज्यादातार वे जिन्होंने वैक्सीन नहीं लगायाpetrol diesel price today: नहीं बदले पेट्रोल-डीजल के दामWEST BENGAL-फिर बेपटरी बीकानेर एक्सप्रेस की इंजन
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.