Ahmedabad metro train के लिए साढ़े छह किलोमीटर लंबी बनी सुरंग

Ahmedabad metro train, tunnel boring machin , heritage city, : खोखरा के एपरेल पार्क से शाहपुर-साबरमती नदी तट तक कार्य पूरा

By: Pushpendra Rajput

Published: 28 Aug 2020, 08:18 PM IST

गांधीनगर. अब वह दिन ज्यादा दूर नहीं जब अहमदाबाद मेट्रो ट्रेन (Ahmedabad metro train) साढ़े छह किलोमीटर लंबी सुरंग (tunnel) में दौड़ेगी। फिलहाल शहर के खोखरा में एपरेल पार्क से लेकर शाहपुर-साबरमती नदी के तट तक सुरंग बिछाने की टनल बोरिंग मशीन (Tunnel boring machine-TBM) पहुंच चुकी है। मेट्रो टे्रन के लिए साढ़े छह किलोमीटर लंबी सुरंग बन चुकी है।

यह सुरंग करीब 18 मीटर गहरी जमीन में बिछाई गई है, इसका व्यास 5.8 मीटर (dia meter) है अहमदाबाद के काफी व्यस्त इलाके के नीचे से होकर गुजरेगी। अप लाइन और डाउनलाइन पर बनी सुरंग में चार टनल बोरिंग मशीन का उपयोग किया गया।

गुजरात मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (GMRC) लिमिटेड की ओर से अहमदाबाद मेट्रो रेल प्रोजेक्ट फेज-1 में 40 किलोमीटर में से 6.5 किलोमीटर का मार्ग भूमिगत है। यह अहमदाबाद के पूर्वी इलाके खोखरा में एपरेल पार्क से शाहपुर-साबरमती नदी के किनारे तक है।

हेरिटेज सिटी (heritage city) में बनी है सुरंग

यह सुरंग अहमदाबाद वल्र्ड हेरिटेज शहर के सघन इलाके के भूमिगत हिस्से में बनाई गई है। इसके लिए करीब 3.3 लाख घनमीटर मिट्टी, 52,300 घनमीटर कंक्रीट लगे।

कारीगरों को लाया गया था विमान से

लॉकडाउन (Lockdown) के चलते मेट्रो प्रोजेक्ट में सुरंग बनाने का भी कार्य थम गया था, लेकिन जब लॉकडाउन खुला तो सुरंग बनाने के कार्य को गति देने के लिए सुरंग बनाने में माहिर इन कारीगरों को उड़ीसा से विमान के जरिए अहमदाबाद बुलाया गया था। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने मेट्रो ट्रेन के कार्य की समीक्षा करते हुए यह बताया कि साढ़े छह किलोमीटर के भूमिगत सेक्शन का अपलाइन व डाउनलाइन का काम पूरा हो चुका है। मुख्यमंत्री ने इस उपलब्धि के लिए भारतीय इंजीनियरिंग कौशल को बधाई दी।

----
मेट्रो रेल प्रोजेक्ट के दो कोरिडोर होंगे

अहमदाबाद मेट्रो रेल प्रोजेक्ट के कुछ हिस्से को फरवरी 2019 में आरंभ किया गया। इस प्रोजेक्ट के पहले चरण की लंबाई 40 किलोमीटर है। इसमें साढ़े छह किलोमीटर अंडरग्राउंड है। शेष जमीन के उपर से दौड़़ेगी। इस प्रोजेक्ट के तहत अहमदाबाद को चारों कोनों से 2 कॉरिडोर व 32 स्टेशनों के मार्फत जोड़ा जाएगा।
उत्तर-दक्षिण कोरिडोर की लंबाई करीब 19 किलोमीटर है जो वासणा एपीएमसी से मोटेरा स्टेडियम को जोड़ेगा। इसके बीच यह साबमरती, एईसी, साबरमती रेलवे स्टेशन, राणिप, वाडज, विजयनगर, उस्मानपुरा, पुराने हाईकोर्ट, गांधीग्राम, पालडी, श्रेयस, राजीवनगर व जीवराज स्टेशनों से होकर गुजरेगी। इस कोरिडोर में सभी 15 स्टेशन एलिवेटेड होंगे।
पूर्व-पश्चिम कोरिडोर की लंबाई करीब 21 किलोमीटर होगी। इस रूट पर वस्त्राल गाम से थलतेज गाम तक 17 स्टेशन होंगे। फिलहाल यह वस्त्राल गाम, निरांत क्रॉस रोड, वस्त्राल, रबारी कॉलोनी, अमराईवाडी होते हुए एपेरेल पार्क तक कार्यरत है, लेकिन फिलहाल कोरोना के चलते यह बंद है। इस रूट पर अन्य स्टेशनों में कांकरिया ईस्ट, कालूपुर रेलवे स्टेशन, घी कांटा, शाहपुर, पुराना हाईकोर्ट, स्टेडियम, कॉमर्स छह रास्ता, गुजरात यूनिवर्सिटी, गुरुकुल रोड, दूरदर्शन केन्द्र शामिल हैं। इस कोरिडोर में साढ़े छह किलोमीटर में भूमिगत है जिनमें 4 अंडरग्राउंड स्टेशन है और शेष एलिवेटेड स्टेशन होंगे। ओल्ड हाईकोर्ट दोनों कॉरिडोर के लिए इंटरचेंज स्टेशन होगा।

Pushpendra Rajput Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned