पत्नी ने ही प्रेमियों के साथ मिलकर पति को उतारा था मौत के घाट

Ahmedabad, Murder, Crime branch, wife, lover, husband murder, विक्टोरिया गार्डन के पास मिले शव की गुत्थी सुलझी, क्राइम ब्रांच ने मृतक की पत्नी व उसके दो प्रेमियों को पकड़ा, पीएम रिपोर्ट में हुआ था गला दबाकर मारने का खुलासा

By: nagendra singh rathore

Published: 22 Jul 2021, 08:48 PM IST

अहमदाबाद. शहर के विक्टोरिया गार्डन के पास १८ जुलाई को मिले अज्ञात युवक के शव की गुत्थी को क्राइम ब्रांच ने सुलझाने का दावा किया है। क्राइम ब्रांच ने युवक की हत्या के आरोप में मृतक की पत्नी और उसके दो प्रेमियों को पकड़ा है। पीएम रिपोर्ट में युवक की मौत गला दबाने के चलते होने की बात सामने आई थी।
पकड़े गए आरोपियों में रेखा उर्फ जाड़ी सोलंकी (३८), उसका प्रेमी शाबिर खान पठान (19), शिवम उर्फ शिवो ठक्कर शामिल हैं। एक आरोपी फरार है।
मृतक की पहचान सूरत निवासी जिग्नेश उर्फ जगदीश आदिवासी के रूप में की गई है। इसके लिए क्राइम ब्रांच की टीमों ने विक्टोरिया गार्डन के पास फुटपाथ पर सोने वाले और सामान बेचने वाले लोगों से पूछताछ की और उन्हें फोटो दिखाकर पता किया था। जिसमें सामने आया कि जगदीश इसी इलाके में कूड़ा-प्लास्टिक बीनने का काम करता और फुटपाथ पर ही सो जाता था। इस बीच मुखबिर से सूचना मिली कि जगदीश की हत्या करने वाले तीन आरोपी भद्रकाली मंदिर के समीप हैं। जिससे वहां पहुंचकर क्राइम ब्रांच की टीम ने रेखा, शाबिरखान और शिवम तीनों को गिरफ्तार कर लिया।

काम नहीं करने और पैसे खर्च करने से कराई हत्या
प्राथमिक जांच व पूछताछ में सामने आया कि रेखा उर्फ जाड़ी खेड़ा की रहने वाली है। मृतक जिग्नेश उर्फ जगदीश उसका दूसरा पति था। वह सूरत का निवासी था। अहमदाबाद निवासी शाबिर रेखा के भाई के घर आता जाता था, जिससे उससे परिचय हुआ और प्रेम हो गया। रेखा उसके पहले पति के बच्चों के साथ सूरत, खेड़ा और अहमदाबाद आती जाती रहती थी। शाबिर फिलहाल उसके साथ ही रहता था। ये सभी कूड़ा बीनने का काम करते, फुटपाथ पर सो जाते थे। जगदीश काम धंधा नहीं करता और उसके पैसे खर्च करदेता था। जिससे रेखा ने शाबिर और शिवम से जगदीश की हत्या की बात कही। दोनों रेखा से प्रेम करते थे, जिससे हामी भर दी। योजना बनाई, जिसके तहत पहले जगदीश को नशा कराया और खाना खाने के बाद विक्टोरिया गार्डन के पास बुलाकर रेखा, राजू उर्फ लंबू, शिवम तथा शाबिर ने मिलकर प्लास्टिक की और सूत की रस्सी से जगदीश का गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। ये रस्सियां रेखा ने कूड़ा बीनने के दौरान बचा ली थीं। राजू उर्फ लंबू के साथ भी रेखा काम करने जाती थी।

nagendra singh rathore
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned