Ahmedabad News : जेलर की संदिग्ध भूमिका पर गुजसीटोक की शिकायत

राजकोट जिले के गोंडल के कुख्यात निखिल दोंगा गैंग के विरुद्ध राजकोट जिला पुलिस ने गुजसीकोट के तहत मामला दर्ज किया है। निखिल दोंगा समेत गैंग के तीन आरोपी हाल में जेल के अंदर हैं। पुलिस ने इस गैंग के विरुद्ध गुजसीटोक के तहत कार्रवाई शुरू की है। गोंडल सबजेल में रहते हुए दोंगा और उसके गुर्गों के जेल में रहते हुए अपराध करने की जानकारी मिली थी। मामले की जांच के दौरान गोंडल सब जेल के जेलर डी के परमार की भूमिका आने पर उसके विरुद्ध भी गुजसीटोक के तहत शिकायत की गई है।

By: Binod Pandey

Updated: 26 Dec 2020, 01:15 AM IST

राजकोट. सौराष्ट्र में संगठित आपराधिक मामलों मेें सक्रिय राजकोट जिले के गोंडल के कुख्यात निखिल दोंगा गैंग के विरुद्ध राजकोट जिला पुलिस ने गुजसीकोट के तहत मामला दर्ज किया है। निखिल दोंगा समेत गैंग के तीन आरोपी हाल में जेल के अंदर हैं। पुलिस ने इस गैंग के विरुद्ध गुजसीटोक के तहत कार्रवाई शुरू की है।

गोंडल सबजेल में रहते हुए दोंगा और उसके गुर्गों के जेल में रहते हुए अपराध करने की जानकारी मिली थी। मामले की जांच के दौरान गोंडल सब जेल के जेलर डी के परमार की भूमिका आने पर उसके विरुद्ध भी गुजसीटोक के तहत शिकायत की गई है। राजकोट जिले के गोंडल में दर्ज गुजसीटोक मं पुलिस ने जेलर समेत 13 लोगों के विरुद्ध कार्रवाई शुरू की है। इन सभी की गिरफ्तारी कर कोर्ट मेें पेश किया गया। कोर्ट ने जेलर का सात दिन का रिमांड मंजूर किया है। जेल में रहते हुए इस गैंग के सदस्या आपराधिक गतिविधियों में सक्रिय थे, वहीं जेल कर्मचारियों की ड्यूटी में रुकावट डालने समेत आपराधिक षडयंत्र कर जेल स्टाफ को फंसाने का पांच अपराध भी कर चुके हैं।

मामले का पर्दाफाश होने के बाद सभी की आपराधिक कुंडली तलाशी गई, जिसमें निखिल गैंग के विरुद्ध 117 मामले दर्ज किए गए हैं। इसमें गोंडल, लोधिका, कोटडासांगाणी, वीरपुर, भायावदर, जेतपुर, भक्तिनगर, मालवियानगर, राजकोट तहसील, गांधीग्राम, प्रद्युम्ननगर, क्राइमब्रांच में लींबडी, थान, जोरावरनगर, केशोद में शिकायत दर्ज की गई है। इन पर हत्या, हत्या की कोशिश, अपहरण, लूट, धाड, आदि मिलाकर 117 मामले शामिल हैं। निखिल के गुर्गे समेत अन्य छह लोग अनधिकृत रूप से जेल में रहते हुए जमीन कब्जा करने का प्लान बनाते थे। पेरोल जम्प कर बाहर आकर लोगों को धमकी देते थे। निखिल 19 बार पेरोल पर बाहर आया था। इस पर 14 आपराधिक मामले दर्ज हैं। जेल में बंद शक्ति सिंह चूडास्मा पर 32, विजय यादव पर 13, अक्षय उर्फ गीरी दूधरेजिया पर 7, विशाल पाटकर पर 6, देवांग जोशी पर 5 नवधण शियाल और दर्शन पटेल पर चार-चार, नरेश पर 3 अपराध दर्ज हैं।

Show More
Binod Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned