Ahmadabad News : 12776 बोरी गेहूं और 2472 बोरी चावल का पता नहीं

  • पालनपुर के आपूर्ति गोदाम में गड़बड़ी की शिकायत दर्ज
  • 1.91 करोड़ रुपए के चावल-गेहूं के गबन का मामला उजागर

By: Binod Pandey

Published: 22 Feb 2021, 08:46 AM IST

पालनपुर. बनासकांठा जिला मुख्यालय पालनपुर के अनाज गोदाम से अनाज गरीबों और कार्डधारकों को देने के बजाए निजी बाजार में बेचने का मामला उजागर हुआ है। गोदाम के प्रबंधक नागजीभाई रोत और इनके पुत्र कन्हैया लाल रोत पर 1.91 करोड़ रुपए के सामान का गबन करने की बात जांच में सामने आई है। जिला आपूर्ति अधिकारी एस.एस. चावड़ा ने मामले में शिकायत दर्ज कराई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार माल गोदाम के प्रबंधक एन पी रोत और इनके पुत्र कन्हैया लाल रोत पर गोदाम से अनाज के जत्थे को बेचने के आरोप लगे थे। विभागीय टीम की जांच में यह सही पाया गया। विभागीय सूत्रों के अनुसार 50 किलो वजन की 12,776 बोरी गेहूं और 2472 बोरी चावल की कमी पाई गई। इसकी कीमत करीब 1.91 करोड़ रुपए आंकी गई। आपूर्ति विभाग ने इसकी करीब दो हजार पेज की रिपोर्ट तैयार कराई है। इसके अंतर्गत डाटा, जीपीएस ट्रेकर रिपोर्ट, पंचनामा, अलग-अलग श्रमिकों व अन्य कर्मचारियों के बयान आदि शामिल किए गए हैं। हालांकि जांच प्रक्रिया के दौरान ही 15 दिन पूर्व गोदाम में काम करने वाले पुराने श्रमिकों का समूह अपने गांव लौट गया और यहां नए श्रमिकों से काम लिया जा रहा है। बताया गया कि पुराने श्रमिक इस बड़े घोटाले के मजबूत साक्ष्य हैं, जिन्हें वापस भेज दिया गया है। अब इसके कारण जांच कार्य में रुकावट पैदा होने की आशंका जताई गई है। प्रशासन श्रमिक ठेकेदार को भी तलाश रहा है।


जानकारी के अनुसार केन्द्र सरकार की ओर से भेजा जाने वाला अनाज का जत्था ट्रेन के जरिए पालनपुर रेलवे स्टेशन पहुंचता है। फिर इसे पालनपुर के मानसरोवर स्थित एफसीआई गोदाम में श्रमिकों की सहायता से भेजा जाता है। इसके बाद ट्रकों के जरिए अलग-अलग स्थानों पर रवाना किया जाता है। इससे पहले लेबर कांट्रेक्टर डायरी तैयार कर ऑनलाइन गेट पास के जरिए नियत जगहों पर भिजवाते हैं। बताया गया कि इन ट्रकों से कुछ बोरे रास्ते में उतारकर निजी वाहनों के जरिए दूसरे जगह भिजवाया जाता था। फिर इसकी पैकिंग बदल कर दूसरी जगहों पर बेच दिया जाता था।

Show More
Binod Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned