Ahmedabad News : तीसरी लहर की आशंका के मद्देनजर राजकोट में एक तैयारी ऐसी भी

एक साथ 25 शवों के अग्निदाह की होगी व्यवस्था, दूसरी लहर में कोरोना महामारी से मृत लोगों के अग्निदाह के दौरान हो रही दिक्कत के बाद राजकोट के समीप गढका आणंदपुर नवागाम वागुदड समेत आसपास के 10 गावों के श्मशान को अग्निदाह के लिए चयनित किया गया था। अब आणंदपर में एक साथ 25 लोगों का अग्निदाह करने की व्यवस्था को लेकर प्रशासन सक्रिय हो गया है।

By: Binod Pandey

Updated: 03 Jul 2021, 07:45 AM IST

राजकोट. कोरोना महामारी की दूसरी लहर की तबाही के बाद अब देश भर में लोग तीसरी लहर नहीं आने की भगवान से प्रार्थना कर रहे हैं। यदि यह लहर आए भी तो कम से कम परेशानी उठानी पड़े। इन सबों से परे प्रशासन तीसरी लहर की आशंका को लेकर अब तक की दो लहरों की तुलना में ज्यादा सतर्क है। टीकाकरण की मुहिम के साथ मास्क और सोशल डिस्टेसिंग के लिए भी लोगों को जागरूक किया जा रहा है, वहीं अस्पताल से लेकर श्मशान घाट तक भी प्रशासन मुस्तैद है। इसी कड़ी में प्रशासन ने अधिक लोगों की मौत की आशंका पर श्मशन में दूसरी लहर की तरह कतार नहीं लगे, अब प्रशासन शहर के नजदीक आणंदपर के पास बड़े श्मशान बनाने की योजना बना रहा है। यहां एक साथ 25 शवों का एक साथ अग्निदाह किया जा सके।


आणंदपर में 100 एकड़ की सरकारी बंजर जमीन खाली पड़ी है। जरूरत के मुताबिक इस जमीन का उपयोग श्मशान बनाने के लिए किया जाएगा। दूसरी लहर में कोरोना महामारी से मृत लोगों के अग्निदाह के दौरान हो रही दिक्कत के बाद राजकोट के समीप गढका आणंदपुर नवागाम वागुदड समेत आसपास के 10 गावों के श्मशान को अग्निदाह के लिए चयनित किया गया था। अब आणंदपर में एक साथ 25 लोगों का अग्निदाह करने की व्यवस्था को लेकर प्रशासन सक्रिय हो गया है। कलक्टर कार्यालय के सूत्रों के अनुसार सोखडा डंपिंग यार्ड के समीप यह जमीन स्थित है। यहां श्मशान समेत पानी, लाइट, लकड़ी की व्यवस्था की जाएगी।

Binod Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned