Ahmedabad News : 6 वर्ष की बालिका को रूम में बंद रखा, चिमटे से जख्मी किया

  • माता ने ही क्रूरता की हद पार कर दी, पुलिस ने जांच शुरू की
  • ताऊ के घर आने पर मामले का खुलासा हुआ

By: Binod Pandey

Published: 24 Jul 2021, 11:05 AM IST

राजकोट. घर में काम नहीं करने से नाराज माता और मौसी ने क्र्रूरता की हद पार करते हुए छह वर्ष की बालिका के साथ अत्याचार किया। मासूम को चिमटे से जख्मी किया। पिछले सात महीने से एक छोटे से कमरे में बंद रखा। बच्ची के ताऊ जब एक दिन घर आए तो बच्ची की दयनीय हालत देखी। बच्ची के आसपास पानी और रोटी रखी था। वह जख्मी थी। जानकारी होने पर आसपास के लोग भी इक_ा हो गए और मामला पुलिस तक पहुंच गया। थानगढ़ पुलिस सर्वप्रथम बच्ची को माता को थाने ले गई। महिला से पूछताछ करते हुए उस पर लगे आरोपों की जांच शुरू कर दी गई है। जख्मी बच्ची के इलाज के लिए उसे राजकोट सिविल अस्पताल ले जाया गया है।


मामले में बताया गया कि थानगढ़ के नवागाम में रहने वाली रंजनबेन मीठापरा और उसकी बहन जीलूबेन डाभी दोनों साथ मिलकर घर का काम नहीं करने पर मासूम छह वर्ष की बच्ची पायल को मारती और फिर कमरे में बंद कर देती थी। उसे चिमटे से जख्मी कर दिया जाता। पायल कक्षा दूसरी में पढ़ती और दो भाइयों में अकेली बहन है। पिता का चार वर्ष पूर्व दिल का दौरा पडऩे से निधन हो गया था। राजकोट सिविल अस्पताल में इलाज करा रही पायल ने बताया कि वह घर में काम नहीं करती तो उसकी माता और मौसी अक्सर मारपीट करती। उसे पिछले सात महीने से कमरे में बंद कर दिया गया था। तीन समय उसे सूखी रोटी और पानी पीने को दिया जाता। पायल के ताऊ मंगाभाई ने बताया कि गुरुवार को एक प्रसंग में वह अपने छोटे भाई के घर गए थे। वहां पायल के बारे में पूछताछ की तो सारी हकीकत सामने आ गई। कमरे में बंद पायल को देखकर उनका हृदय कांप उठा।

Binod Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned