Ahmedabad News : Ambaji : अंबाजी मंदिर में 26 वर्ष बाद सहस्त्र चंडी महायज्ञ 27 से

देश के 51 शक्तिपीठों व यज्ञशाला के ब्राह्मणों की ओर से गुरुवार से अंबा माताजी की मूर्ति का महाभिषेक कर सहस्त्र चंडी महायज्ञ की शुरुआत की जाएगी, इसकी पूर्णाहुति आगामी 2 सितंबर की शाम 4.30 बजे होगी। पांच दिनों तक 40 ब्राह्मण प्रतिदिन 1000 चंडी पाठ करेंगे और विश्व शांति के उद्देश्य से 10 लाख जप किए जाएंगे।

By: Binod Pandey

Published: 26 Aug 2020, 03:13 PM IST

पालनपुर. बनासकांठा जिले में स्थित शक्तिपीठ के पौराणिक अंबाजी मंदिर में 26 वर्ष बाद सहस्त्र चंडी महायज्ञ गुरुवार से शुरू होगा। इसके साथ ही पांच दिनों तक 40 ब्राह्मण प्रतिदिन 1000 चंडी पाठ करेंगे और विश्व शांति के उद्देश्य से 10 लाख जप किए जाएंगे।
बनासकांठा जिले की दांता तहसील में अंबाजी स्थित मां अंबा के अंबाजी मंदिर में मंदिर के देवस्थान ट्रस्ट की ओर से इससे पूर्व वर्ष 1994 में शिखर कलश स्थापना के दौरान सहस्त्र चंडी महायज्ञ का आयोजन किया गया।
देश के 51 शक्तिपीठों व यज्ञशाला के ब्राह्मणों की ओर से गुरुवार से अंबा माताजी की मूर्ति का महाभिषेक कर सहस्त्र चंडी महायज्ञ की शुरुआत की जाएगी, इसकी पूर्णाहुति आगामी 2 सितंबर की शाम 4.30 बजे होगी।
देवस्थान ट्रस्ट के प्रशासक एस.जी. चावड़ा के अनुसार कोरोना संक्रमण के कारण गुरुवार से आगामी 2 सितंबर तक प्रस्तावित भादरवी पूर्णिमा के मेले पर रोक के साथ ही सोमवार से आगामी 4 सितंबर तक दर्शनार्थियों के लिए मंदिर बंद रखने का निर्णय जिला प्रशासन की ओर से किया गया है।
हालांकि इस दौरान श्रद्धालु अपने घरों से ही माताजी की पूजा-अर्चना कर सकेंगे। इसके लिए जिला प्रशासन एवं श्री आरासुरी अंबाजी माता देवस्थान ट्रस्ट, अंबाजी की ओर से व्यवस्था की गई है। भादरवी पूर्णिमा के समय के दौरान विविध ऑनलाइन धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है। अंबाजी मंदिर के गर्भगृह आरती-दर्शन का जीवंत प्रसारण, गब्बर दर्शन, सहस्त्र चंडी महायज्ञ का जीवंत प्रसारण किया जाएगा।
गुरुवार से आगामी 2 सितंबर तक श्रद्धालु, देवस्थान ट्रस्ट की वेबसाइट, फेसबुक, यू-ट्यूब, ट्वीटर, लाइव स्ट्रिमिंग सर्वर से दर्शन का लाभ ले सकेंगे। लाइव वेवकास्टिंग में माताजी के गर्भगृह की सवेरे व शाम की आरती, समय-समय पर दर्शन, चाचर चौक पर सहस्त्र चंडी महायज्ञ, गब्बर दर्शन, नृत्य मंडप, यज्ञशाला में होने वाले कार्यक्रम व गत वर्ष के सांस्कृतिक कार्यक्रमों का सवेरे 7 से मंदिर मंगल होने तक ऑनलाइन जीवंत प्रसारण किया जाएगा।

Show More
Binod Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned