Ahmedabad News : दिल्ली से एम्स की टीम फिर पहुंची राजकोट

AIIMS team from Delhi, reached Rajkot again, दिल्ली से एम्स की टीम फिर पहुंची राजकोट, 200 एकड़ आवंटित जमीन के कुछ हिस्से पर बारिश का पानी भरने का तकनीकी रिपोर्ट में खुलासा, परा पीपलिया में आवंटित सरकारी जमीन की जांच, 40 एकड़ जमीन और आवंटित होगी

राजकोट. केन्द्र सरकार की ओर से गुजरात का प्रथम एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) राजकोट में स्थापित करने की घोषणा के बाद जिला कलक्टर की ओर से आवंटित की गई 200 एकड़ सरकारी जमीन के कुछ हिस्से पर बारिश का पानी भरने का तकनीकी रिपोर्ट में खुलासा हुआ है।
सूत्रों के अनुसार राजकोट, सौराष्ट्र व गुजरात के गंभीर रोगों के मरीजों को श्रेष्ठ उपचार उपलब्ध करवाने के लिए केन्द्र सरकार की ओर से गुजरात का प्र्रथम एम्स राजकोट में स्थापित करने की घोषणा की गई है। इस घोषणा के बाद राजकोट जिला कलक्टर की ओर से राजकोट जिले में जामनगर राजमार्ग पर परा पीपलिया गांव में 200 एकड़ सरकारी जमीन आवंटित की गई।
जिला कलक्टर रेम्या मोहन के अनुसार एम्स के लिए आवंटित जमीन पर कार्य शुरू करने से पहले की गई स्थल की जांच के दौरान करीब 39-40 एकड़ जमीन पर बारिश का पानी भरने का खुलासा तकनीकी रिपोर्ट में हुआ है। इस कारण परा पीपलिया गांव में ही उपलब्ध करीब 40 एकड़ जमीन आवंटन की कार्रवाई शुरू की गई है। यह जमीन पूर्व में आवंटित 200 एकड़ जमीन से जुड़ी हुई है, इसलिए एम्स की स्थापना के स्थल में कोई फेरफार नहीं होगा। परा पीपलिया गांव में ही उपलब्ध अतिरिक्त सरकारी जमीन आवंटित की जाएगी।
जानकारी के अनुसार परा पीपलिया गांव में आवंटित की गई 200 एकड़ सरकारी जमीन पर एक निजी किसान खातेदार की कुछ जमीन का हिस्सा था, वह जमीन अधिग्रहित कर किसान खातेदार को क्षतिपूर्ति राशि का भुगतान किया जा चुका है। फिलहाल एम्स के खाते में 200 एकड़ सरकारी जमीन चढ़ा दी गई है। इसके साथ ही दिल्ली से एम्स की टीम, अलग-अलग सरकारी एजेंसियों की टीमें, सरकारी कार्यालयों के शीर्ष अधिकारी एम्स के लिए आवंटित की गई जमीन पर गुरुवार को पहुंचे। स्थल की जांच के दौरान करीब 39-40 एकड़ जमीन पर बारिश का पानी भरने का खुलासा तकनीकी रिपोर्ट में हुआ।
एम्स के निर्माण के लिए सर्वप्रथम चार दीवारी (कम्पाउण्ड वॉल) का निर्माण कार्य किया जाना था। यह दीवार बनाने में भी ढाल वाली जमीन आने के चलते और इस जमीन पर बारिश का पानी भरने की समस्या के चलते ऐसी जमीन का माप किया गया। इस दौरान 39-40 एकड़ जमीन पर बारिश का पानी भरने का खुलासा हुआ। इस कारण पूर्व में आवंटित की गई 200 एकड़ जमीन से जुड़ी 40 एकड़ अन्य जमीन एम्स के लिए आवंटित की जाएगी। जिला कलक्टर के अनुसार पूर्व में आवंटित जमीन के अतिरिक्त 40 एकड़ और जमीन आवंटित करने की गतिविधि तेज कर दी गई है। बारिश का पानी भरने वाली 40 एकड़ जमीन सरकार वापस ले लेगी और नई 40 एकड़ जमीन आवंटित की जाएगी। १

शिलान्यास करने प्रधानमंत्री मोदी मार्च या अप्रेल में आ सकते हैं राजकोट

राजकोट. जिला कलक्टर रेम्या मोहन के अनुसार राजकोट में एम्स का शिलान्यास करने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आगामी मार्च अथवा अप्रेल महीने में राजकोट आ सकते हैं।

मुख्य सचिव कर रहे समन्वय

राजकोट में एम्स के निर्माण के लिए केन्द्र व राज्य सरकार के बीच समन्वय का काम गुजरात के मुख्य सचिव अनिल मुकीम कर रहे हैं। वे प्रगति की लगातार जानकारी हासिल कर रहे हैं और कार्रवाई करने के लिए आवश्यक दिशा-निर्दश दे रहे हैं।

Rajesh Bhatnagar Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned