Ahmedabad अक्षत...

Akshat, Rice, Ahmedabad, Farmer, Sanskrit, food

उपेन्द्र शर्मा

अहमदाबाद. मेरी हथेली में जो आप देख रहे हैं वो दुनिया में सर्वाधिक खाया जाने वाला अनाज है। नाम है अक्षत (संस्कृत) अर्थात चावल। मैं ऐसे कई लोगों को जानता हूं जो चावल खाते हैं लेकिन वे सीधा उस चावल को जानते हैं जो दुकान या होटल पर मिलता है। यह उस चावल का वो रूप है जो खेत में अभी अभी जड़ से अलग हुआ है। चावल का दाना अभी भीतर से निकलेगा छिलका हटने के बाद।
भारत की लगभग 70 प्रतिशत और दुनिया की करीब 65 प्रतिशत आबादी चावल खाकर ही अपना पेट भरती है। राजस्थान भारत का वो राज्य है जहां चावल बहुत कम खाते हैं। वहां के गांवों में तो आज भी चावल या तो त्योहार पर बनता है या विवाह जैसे मांगलिक कार्यों में।
भारत में मांगलिक कार्यों में माथे पर तिलक लगाने की परम्परा है उसमें तिलक पर चावल भी चिपकाये जाते हैं भाल पर।
सिन्धु घाटी सभ्यता में भी चावल का जिक्र है। उस दौर का एक शब्द है 'क्षीरोदन' क्षीर मतलब दूध। दूध में चावल पकाकर बना व्यंजन खीर कहलाता है। आज भी भारत-पाकिस्तान में सर्वाधिक लोकप्रिय व्यंजनों में से एक है। शायद इसी परम्म्परा के चलते आज भी सिन्ध वालों को चावल खास प्रिय है। बल्कि पानी की कमी होने के बावजूद सिन्ध के पड़ौस में ईरान, बलूचिस्तान, मुल्तान, पंजाब, अफग़़ान, गुजरात में भी चावल खूब खाया जाता है। भारत में आजकल गेंहू खूब खाया जाता है, लेकिन 400 साल पहले गेंहू एक प्रतिशत लोग भी नहीं खाते थे। गेंहूं मूलत भारत की फसल नहीं है। जौ जरूर मूलत: भारतीय है। गेहूं मध्य एशिया से आने वाले लोग भारत की तरफ लेकर आए।
चावल उगाने के लिए खेत में घुटनों तक पानी भरना पड़ता है। इसलिये देश के दक्षिणी और पूर्वी हिस्सों में इसकी खेती खूब होती है। उन इलाकों में खाया भी खूब जाता है। अब आधुनिक युग में राजस्थान के श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, झालावाड़, बांसवाडा में चावल की खेती होने लगी है क्युंकि नहरों का पानी उप्लब्ध है। हालांकि पर्यावरणविद इसे गलत मानते हैं। देश के सुप्रसिद्ध पर्यावरणविद सुन्दर लाल बहुगुणा और उनकी पत्नी ने गट 40 वर्षों से चावल नहीं खाया है क्युंकि 1 किलो चावल उगाने के लिए 12 लीटर पानी की जरुरत होती है, जिसकी अब पूरी दुनिया में भीषण कमी है।
संसार भर में चावल की करीब 300-350 किस्में होती हैं जिनमें सर्वाधिक सुन्दर, सफेद, लम्बाई, खुशबु वाले बासमती चावल भारत-पाक के पंजाब में होते हैं।
चावल से लगभग 1300 व्यंजन दुनिया भर में बनाये जाते हैं। श्रीलंका से जापान के बीच के देशों में चावल की रोटी भी बनाई जाती है। मांसाहार या शाकाहार दोनों के साथ चावल बेजोड़ ही रहता है। सिवाय रेगिस्तान के चावल बर्फ, समुद्र, पहाड़, जंगल हर जगह है।

हमारे एक परिचित आला अफसर हैं हेमंत जी। वे मूलत: बिहार से हैं, उनका एक डायलोग अक्सर याद आता है "साला चावल में ब्रेन (दिमाग) होता है रे....तभी ना सब आईएएस लोग बिहार का और वैज्ञानिक लोग साउथ का है......"
खैर निस्संदेह चावल एक बेहतरीन उर्जादायक अनाज है, जिससे भारतीयों का सदियों पुराना नाता है। तो हो जाए फिऱ एक एक राइस प्लेट.....

nagendra singh rathore
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned