आणंद. गुजरात में शराबबंदी के के बावजूद हेराफेरी हो रही है। जैसे-जैसे कानून कड़ा हो रहा है, वैसे-वैसे बुटलेगर भी हेराफेरी के नए-नए रास्ते खोज रहे हैं। आणंद जिले में लक्जरी बस की तलाशी ली तो उसमें स्लिपिंग सीटों के नीचे एक गुप्तखाना मिला, जिसमें से १२ लाख की शराब बरामद की है।
मुखबिर से मिली सूचना के आधार पर स्टेट मोनिटरिंग सेल ने बोरसद की वासद चौकड़ी के निकट छोटालाल हाउस के सामने खड़ी लक्जरी बस की तलाशी ली, जिसमें स्लिपिंग सीटों के नीचे बने एक गुप्तखाने से शराब की ३८ हजार ६०० बोतल मिली। बरामद शराब की कीमत १२ लाख से अधिक बताई जा रही है। पुलिस ने बस चालक व राजस्थान के उदयपुर जिले की गोगुन्दा ग्राम पंचायत के कुंभारो का तालाब निवासी प्रकाश गणेश तैली एवं जगदीश पुरोहित को गिरफ्तार किया।


शराब का किराया ६० हजार!
प्रारंभिक पूछताछ में सामने आया है कि शराब हरियाणा से भीलवाड़ा के महेन्द्र राजपूत ने भरी थी और किराया ६० हजार रुपए तय किया गया था। यह शराब बोरसद से १० किलोमीटर दूर स्थित किसी गांव के बुटलेगर को पहुंचानी थी।


बस की नम्बर प्लेट भी अलग
लक्जरी बस की नम्बर प्लेट अलग-अलग थी। एक राजस्थान पार्किंग की थी तो दूसरी गुजरात पार्किंग की थी। गिरफ्तार दोनों जने दो बार गुजरात में शराब पहुंचा चुके हैं। इस संबंध में बोरसद टाउन पुलिस ने मामला दर्ज किया है।

Ad Block is Banned