अहमदाबाद में तीन वर्ष में कुत्तों की नसबंदी पर खर्च किए 6.59 करोड़

पांच माह में ही 27 हजार लोगों को काटा

By: Omprakash Sharma

Published: 03 Jul 2020, 10:53 PM IST

अहमदाबाद. शहर में आवारा कुत्तों की संख्या पर नियंत्रण लाने के लिए महानगरपालिका ने तीन वर्ष में ही 6.59 करोड़ से अधिक रुपए खर्च कर दिए। इसके बावजूद शहर में पांच माह में ही 27 हजार से अधिक लोगों को कुत्तों के काटने के मामले सामने आए हैं। इस वर्ष मई माह में कुत्तो के काटने के मामले सबसे कम सामने आए। जिसके पीछे कोरोना के चलते लॉकडाउन माना जा रहा है।
अहमदाबाद शहर में कुत्तों की संख्या पर काबू पाने के लिए नसबंदी के पीछे करोड़ों रुपए खर्च किए जाते हैं। इसके बावजूद कई इलाके तो ऐसे हैं जहां कुत्तों को झुंड में भी देखे जा सकते हैं। रात के समय में कभी-कभी कुत्तों के कारण दुर्घटनाओं का भी डर रहता है।
महानगरपालिका प्रशासन का कहना है कि पिछले तीन वर्षों में करीब 86 हजार कुत्तों की नसबंदी की गई है। सबसे अधिक 36363 कुत्तों की नसबंदी वर्ष 2019-20 में की गई है। इसके पीछे 3.24 करोड़ से अधिक खर्च हुआ है। इसके अलावा वर्ष 2017-18 में में 31381 कुत्तों की नसबंदी की गई और इसके पीछे करीब दो करोड़ (19958319) रुपए खर्च किए गए। जबकि वर्ष 2018-19 में 18219 कुत्तों की नसबंदी के पीछे 1.36 करोड़ रुपए के आसपास खर्च किए गए।
इस तरह से तीन वर्षों में 85963 कुत्तों की नसबंदी के पीछे 65950292 (करीब 6.60) करोड़ रुपए खर्च किए गए।
शहर में इस वर्ष जनवरी से मई माह तक 27620 लोगों के कुत्तों के काटने के मामले सामने आए हैं। ये तो वे लोग हैं जिन्हें कुत्तों के काटने के बाद इंजेक्शन लगाया गया है। जहां अस्पतालों में ये मामले दर्ज हुए हैं। इस वर्ष कुत्तों के काटने के सबसे अधिक मामले जनवरी माह मं दर्ज हुए जबकि सबसे कम मई में। माना जा रहा है कि कोरोना के चलते लॉक डाउन की वजह से कुत्तों के काटने के मामले मई और अप्रेल माह में कम आए हैं।

अस्पतालों में कुत्तों के काटने के दर्ज मामले
महीना मामले
जनवरी 7515
फरवरी 7368
मार्च 6031
अप्रेल 3789
मई 2917
कुल 27620

Omprakash Sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned