तोगडिय़ा, भाजपा विधायक सहित 39 के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट

वर्ष 1996 का धोती प्रकरण

By: Uday Kumar Patel

Updated: 04 Jan 2018, 11:17 PM IST


अहमदाबाद. स्थानीय अदालत ने वर्ष 1996 के धोती प्रकरण में विहिप के फायर ब्रांड नेता व अंतरराष्ट्रीय कार्य अध्यक्ष प्रवीण तोगडिय़ा, भाजपा के विधायक बाबू जमना दास पटेल सहित 39 जनों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है। अदालत ने पुलिस से इन सभी को गिरफ्तार कर आगामी 30 जनवरी को अदालत के समक्ष पेश करने को कहा है। जानकारी के मुताबिक दो दशक से ज्यादा समय पहले हुए धोती प्रकरण में हत्या के प्रयास को लेकर शिकायत दर्ज की गई थी। कई बार समन जारी करने के बावजूद अदालत में उपस्थित नहीं होने पर मेट्रोपोलिटन अदालत ने यह वारंट जारी किया गया है।
20 मई 1996 को अहमदाबाद के सरदार पटेल स्टेडियम में भाजपा के एक समारोह के बाद भाजपा के वरिष्ठ नेता आत्माराम पटेल की धोती खींचकर उनके साथ मार-पीट की गई थी।
तत्कालीन भाजपा नेता शंकर सिंह वाघेला के खजुरिया कांड के वक्त भाजपा के दूसरे गुट ने वाघेला समर्थक व भाजपा के वरिष्ठ नेता आत्माराम की धोती निकालकर पिटाई की थी। इस घटना के दौरान वे बाल-बाल बचे थे। इसके अलावा वाघेला समर्थक नेताओं को भी पीटा गया था। इस मामले की शिकायत नारणपुरा थानें में दर्ज कराई गई थी। इसके बाद मामला क्राइम ब्रांच को सौंपा गया था। मामला 21 वर्षों से लंबित है।
शंकर सिंह वाघेला ने भाजपा में बगावत कर दी थी। इससे पार्टी में खजूरिया व हजूरिया नाम से दो धड़े हो गए थे। वाघेला के साथ खजुराहो जाने वाले गुट को खजूरिया और केशूभाई गुट के नेताओं को हजूरिया कहा जाता था। खजुराहो से वापस अहमदाबाद लौटने के बाद सरदार पटेल स्टेडियम में भाजपा के दोनों धड़ों की बैठक हुई जिसमें यह बवाल हुआ था। इस बबाल के बाद वाघेला ने कांग्रेस के साथ मिलकर नई सरकार बनाई थी। वे खुद मुख्यमंत्री बने थे। वाघेला की सरकार करीब एक वर्ष चली।वर्ष 1998 में वाघेला ने अपनी अलग राजनीतिक पार्टी-राष्ट्रीय जनता पार्टी (राजपा) का गठन किया, लेकिन विधानसभा चुनाव में पार्टी को सिर्फ चार सीटें ही मिली थी।

 

Uday Kumar Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned