Ashok Gehlot के बयान ने चलवाया Gujarat में शराब के खिलाफ अभियान

Ashok Gehlot के बयान ने चलवाया Gujarat में शराब के खिलाफ अभियान
Ashok Gehlot के बयान ने चलवाया Gujarat में शराब के खिलाफ अभियान

Uday Kumar Patel | Updated: 10 Oct 2019, 06:28:04 PM (IST) Ahmedabad, Ahmedabad, Gujarat, India

-Rajasthan CM Ashok Gehlot, Gujarat, CM VIjay Rupani, Special drive, Liqour, statement

गांधीनगर. एक तरफ जहां राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गुजरात में शराब के लेकर बयान पर जहां राजनीति गरमाई है वहीं दूसरी ओर गहलोत के बयान का असर भी हुआ है। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने मंत्रिमंडल की बैठक में इस मुद्दे पर नाराजगी जताते हुए राज्य भर में शराबबंदी के कड़़े ढंग से अमल की बात कही है। बताया जाता है मुख्यमंत्री ने मंत्रियों के साथ-साथ अधिकारियों को शराबबंदी के कड़े ढंग से अमल के निर्देश दिए हैं।
इसे लेकर राज्य के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) शिवानंद झा ने राज्य के सभी जिला पुलिस अधीक्षकों को गुरुवार से एक सप्ताह तक शराब और जुए के खिलाफ विशेष अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं। इसमें कहा गया है कि विशेष अभियान के तहत एक सप्ताह के दौरान यह कार्रवाई सिर्फ कागजी बनकर नहीं रह जाए। इसके लिए प्रतिदिन की रिपोर्ट कंट्रोल रूम में भेजनी होगी।
राज्य में सभी पुलिस थानों को शराब-जुए के छापे गुरुवार से 16 अक्टूबर तक सभी शहर-जिलों में एक सप्ताह का विशेष अभियान चलाया जाएगा। इसके तहत अहमदाबाद शहर के छारानगर इलाके में पुलिस की भारी मौजूदगी के तहत छापे की कार्रवाई की गई।
विशेष अभियान के शराब के अड्डों पर पहले मारे गए छापे के स्थलों को ध्यान में रखने को कहा गया है। साथ ही इस अभियान के तहत जिले में स्थानीय अपराध शाखा (एलसीबी), शहर में प्रिवेन्शन ऑफ क्राइम ब्रांच (पीसीबी), डिटेक्शन ऑफ क्राइम ब्रांच (डीसीबी) जैसी एजेंसियों को साथ रखकर इस कार्य को ज्यादा ढंग से कारगर करने की बात कही गई है। शराब की बिक्री, संग्रह व उत्पादन के स्थलों पर विशेष अभियान चलाया जाएगा।
बुधवार को राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में शराब और शराबबंदी के मुद्दे पर गुजरात की भाजपा सरकार को नीचा दिखने का एहसास हुआ है। पहले राजस्थान के मुख्यमंत्री गहलोत के बयान और इसके जवाब में रूपाणी ने पलटवार किया था। साथ ही प्रदेश भाजपा अध्यक्ष जीतू वाघाणी व भाजपा प्रवक्ता भरत पंड्या ने भी गुजरात के बचाव में बयान दिए थे, लेकिन बुधवार को ही गुजरात विधानसभा में विपक्ष के नेता परेश धानाणी ने भी राज्य में शराब को लेकर टिप्पणी की। इसे देखते हुए राज्य सरकार ने राज्य में शराब बंदी को लेकर विशेष अभियान छेडऩे के निर्देश दिए गए हैं। राज्य में शराब की आवाजाही को रोकने के लिए कड़े अमल के निर्देश दिए गए हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned