कोरोना से लडऩे को बनाया आयुर्वेदिक भाप सेंटर

कोरोना की बढ़ती रफ्तार से प्रभावित होने वाले मरीजों का इलाज अस्पतालों में तो किया जा रहा है। लेकिन कोरोना संक्रमण से बचने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में एक अलग ही सकारात्मक प्रयोग किया जारहा है। जिले की तनेटी गांव के लोगों ने आयुर्वेदिक भाप सेंटर की शुरुआत की है।

By: Navneet Sharma

Published: 26 Apr 2021, 06:11 PM IST

महेसाणा. कोरोना की बढ़ती रफ्तार से प्रभावित होने वाले मरीजों का इलाज अस्पतालों में तो किया जा रहा है। लेकिन कोरोना संक्रमण से बचने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में एक अलग ही सकारात्मक प्रयोग किया जारहा है। जिले की तनेटी गांव के लोगों ने आयुर्वेदिक भाप सेंटर की शुरुआत की है। इस सेंटर में गांव के लोग बारी-बारी आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों से बने काढ़े का भाप लेते है।

तनेटी गांव की सरपंच पीनल पटेल की ओर से गांव में कोरोना संक्रमण से लोग प्रभावित नहीं होने के लिए आयुर्वेदिक सेंटर बनाने का निर्णय लिया गया। 30 से ज्यादा आयुर्वेदिक औषधियों को एक बड़े बर्तन में गर्म किया जाता है और उस बर्तन से एक पाइप के जरिए लकड़ी के बनाए गए छोटे से कमरे में भेजा जाता है। लोग बारी- बारी उस कमरे में जाकर आयुर्वेदिक औषधियों का भाप लेते हैं।

गांव के निवासी हरेश पटेल बताते हैं कि गांव में कोरोना के 10 पॉजिटिव केस थे लेकिन अब केवल 4 लोग ही संक्रमित है। आयुर्वेदिक सेंटर में भाप लेने से संक्रमण का खतरा कम हो जा रहा है। ग्रामीण जनता की ओर से उठाया गया यह कदम कोरोना संक्रमण की गति को रोकने का एक अच्छा प्रयोग है।

Navneet Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned