अस्पताल में मौत के बाद दिया 3 लाख रुपए का बिल

चाय की लॉरी वाले ने दम तोड़ा, कोरोना संक्रमित बताने पर हुआ विवाद

By: Rajesh Bhatnagar

Published: 23 Nov 2020, 12:05 AM IST

वडोदरा. शहर के दिवालीपुरा क्षेत्र में एक चाय की लॉरी वाले को 10 दिन पहले बीमार होने पर एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया। उसने दो दिन पहले दम तोड़ दिया। अस्पताल प्रशासन की ओर मृतक के परिवार को तीन लाख रुपए का बिल देने व उसे कोरोना संक्रमित बताने पर विवाद हो गया।
सूत्रों के अनुसार दिवालीपुरा निवासी व क्षेत्र में चाय की लॉरी चलाने वाले हसमुखभाई राठोड को 10 दिन पहले बीमार होने पर फतेगंज क्षेत्र स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया। वहां सामान्य बीमारी बताकर उसका उपचार शुरू किया गया। दो दिन पहले हसमुखभाई ने दम तोड़ दिया।
चिकित्सकों ने मृतक की पत्नी को बुलाकर कहा कि कोरोना संक्रमण के कारण मौत हुई है और परिवार को शव नहीं सौंपकर कोरोना की गाइडलाइन के अनुरूप अंतिम विधि की जाएगी। इसके साथ ही 3 लाख रुपए के बिल का भुगतान करने की जानकारी दी गई। इस कारण गरीब परिवार में चिंता व्याप्त हो गई।
मृतक के परिवारजनों ने आरएसपी व स्ट्रीट वेंडर्स एसोसिएशन के अग्रणी अरविंदभाई सिंघा से संपर्क किया। उन्होंने अस्पताल पहुंचकर वहां के अधिकारियों से संपर्क कर बिल की राशि कम करने की मांग की। इसके बावजूद अस्पताल के अधिकारियों की ओर से राशि की मांग करने पर परिवारजनों ने राशि नहीं चुकाने का निर्णय किया।

अस्पताल प्रशासन ने 70 हजार रुपए चुकाने को कहा

हालांकि बाद में अस्पताल के अधिकारियों ने 3 लाख के बिल मेें कमी करते हुए 70 हजार रुपए चुकाने के लिए कहा। मृतक के परिवारजनों ने दिवालीपुरा गांव के समीप चार रास्ते पर नारियल को हाथ मेंं रखकर अंतिम संस्कार किया।

Rajesh Bhatnagar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned