करोड़ों की बोगस बिलिंग का पर्दाफाश, एक गिरफ्तार

Bogus bill, accused arrested, State GST, input tax credit, Gandhinagar: स्टेट जीएसटी ने की कार्रवाई

By: Pushpendra Rajput

Published: 03 Jan 2021, 09:28 PM IST

गांधीनगर. स्टेट जीएसटी ने बोगस बिलिंग करने वालों के खिलाफ शिकंजा कसा है। ऐसे ही बिल्डिंग मटीरियल्स के कारोबार में 219.35 करोड़ रुपए की बोगस बिलिंग का मामला सामने आया है, जिसमें एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। आरोपी ने 21 फर्जी कम्पनियां बनाकर बोगस बिलिंग कर 40.33 करोड़ रुपए का इनपुट टेक्स (कर शाख) हासिल की।

स्टेट जीएसटी ने जून-2019 में बड़े पैमाने पर बोगस बिलिंग करनेवालों के खिलाफ राज्यभर में जांच की थी, जिसमें सूरत में 21 बोगस (फर्जी) कम्पनियां बनाने का मामला सामने आया था। इस मामले में मास्टर माइंड के तौर पर उमंग जोगेश पटेल का नाम सामने आया था, जिसमें 21 कम्पनियों से 9 कम्पनियों से बगैर कोई माल भेजे कारोबार करने का मामला सामने आया। वहीं 12 कम्पनियों के नाम से आरोपी बोगस खरीद बताकर गैर कानूनी तरीके से इनपुट क्रेडिट (कर शाख) हासिल की थी।

आरोपी ने इन 21 कम्पनियों के जरिए 219.35 करोड़ रुपए के बोगस बिल जारी कर 40.33 करोड़ रुपए इनपुट टैक्स क्रेडिट हासिल की थी। यह आरोपी पिछले डेढ़ वर्षों से विदेश , भावनगर और मुंबई समेत स्थलों पर छिपते घूम रहा था। बाद में स्टेट जीएसटी विभाग की इन्टेलिजेंस विंग ने आरोपी पर लगातार निगरानी की और गोपनीय ऑपरेशन कर आरोपी धरदबोचा। फिलहाल स्टेट जीएसटी अधिकारी आरोपी के खिलाफ कार्रवाई कर रहे हैं।

वहीं एक अन्य मामला सामने आया, जिसमें ऑयल और केमिकल क्षेत्र में 83 करोड़ रुपए की बोगस बिलिंग के जरिए सूरत का रहने वाले आरोपी संजय दूधवाला ने सरकार को करोड़ों का चूना लगाया। आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपी ने जरूरतमंदों को रुपए देकर उनसे दस्तावेज हासिल कर लिए थे और उनके नाम से बैंक खाते और जीएसटी रजिस्ट्रेशन कराए थे। आरोपी ने 5 कम्पनियां बनाकर 83.21 करोड़ रुपए बोगस बिल बनाकर 12.66 करोड़ रुपए की कर शाखा हासिल की।

Pushpendra Rajput Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned