पहली बार चुने गए दूधात-डेर विधायक पहले ही सत्र में निलंबित

पहली बार चुने गए दूधात-डेर विधायक पहले ही सत्र में निलंबित

Uday Kumar Patel | Publish: Mar, 15 2018 12:19:58 AM (IST) Ahmedabad, Gujarat, India

दोनों एक ही जिले अमरेली से

गांधीनगर. विधानसभा से तीन वर्ष के लिए निलंबित किए गए कांग्रेस के दोनों विधायक- प्रताप दूधात व अमरीश डेर-पहली बार विधायक बने और पहले ही सत्र में निलंबित कर दिए गए। दोनों विधायक अमरेली जिले से हैं। विधानसभा अध्यक्ष राजेन्द्र त्रिवेदी ने दोनों विधायकों को 31 मार्च 2021 तक निलंबित कर दिया है।
सावरकुंडला से ३२ वर्षीय विधायक दूधात पहली बार विधायक बने हैं। गत वर्ष दिसम्बर में हुए विधानसभा चुनाव में उन्होंने भाजपा के कमलेश कानाणी को हराया था। दूधात विधानसभा के प्रथम सत्र की शुरुआत से ही काफी सक्रिय दिखते थे। हालांकि कई बार भाजपा विधायकों की टिका-टिप्पणी का विरोध करते दिखे।
उधर राजुला से युवा विधायक अमरीश डेर भी पहली बार विधायक बने हैं। गत वर्ष के विधानसभा चुनाव में 39 वर्षीय डेर ने भाजपा के धाकड़ नेता हीरा सोलंकी को हराया। हीरा सोलंकी राज्य के मंत्री पुरुषोत्तम सोलंकी के भाई हैं जो इस सीट से लगातार चार बार जीत रहे थे।
वहीं गांधीनगर जिले में कलोल से विधायक बलदेव ठाकोर तीसरी बार विधायक बने हैं। 56 वर्षीय ठाकोर विधानसभा की कार्यवाही में काफी मुखर दिखते हैं। वे पिछले विधानसभा सत्र में निलंबित हो चुके हैं। 14वीं विधानसभा के पहले ही सत्र   में गुजरात की छवि को धुमिल करने वाली घटना घटी। 

भगत सिंह की तरह जोश आया और हमला किया: दूधात

कांग्रेस विधायक दूधात ने अपना बचाव करते हुए कहा कि पिछले छह-सात दिनों से भाजपा के विधायक जगदीश पंचाल सहित कुछ अन्य लोग उन्हें अपशब्द कह रहे थे। बुधवार को भी जब पंचाल ने उनसे अपशब्द कहा तब उन्हें भगत सिंह की तरह जोश आया और उन्होंने माइक से हमला कर दिया।
उन्होंने यह भी कहा कि विधानसभा की हिंसा की घटना उचित नहीं है। उन्होंने कांग्रेस की परंपरा की तरह काम किया है। कांग्रेस में नेहरू व अन्य लोग है वहीं भगत सिंह जैसे भी लोग थे। उन्होंने भगत सिंह की तरह काम किया है।
-

Ad Block is Banned