scriptBrain dead, Ahmedabad, Sotto, civil hospital, | अहमदाबाद का सिविल अस्पताल: 25वें ब्रेन डेड मरीज के अंगदान, दान में मिले 86 अंगों में से 72 को मिला जीवन | Patrika News

अहमदाबाद का सिविल अस्पताल: 25वें ब्रेन डेड मरीज के अंगदान, दान में मिले 86 अंगों में से 72 को मिला जीवन

जामनगर के हितेश दावड़ा के दो किडनी, लीवर और फेफड़े का दान

अहमदाबाद

Published: December 22, 2021 10:06:31 pm

अहमदाबाद. एशिया के सबसे बड़े सिविल अस्पताल में इन दिनों ब्रेन डेड मरीज के अंगों को दान में करने को लेकर जागरुकता बढ़ रही है। बुधवार को जामनगर के 44 वर्षीय ब्रेन डेड मरीज के अंगों का दान में देने के साथ ही पिछले एक वर्ष में ब्रेन डेड दाता के रूप में 25 लोगों ने 86 अंगों का दान कर दिया। इनसे 72 लोगों को नया जीवन मिल सका है।
जामनगर निवासी हितेशभाई दावड़ा (44) को तीन दिन तक सिर में तेज दर्द की शिकायत के बीच वह गिर गया था। उस दौरान स्थानीय अस्पताल में भर्ती करवाया गया जहां से उसे अहमदाबाद के सिविल अस्पताल में रेफर किया गया। तबीयत में सुधार नहीं होने के चलते हितेशभाई की उचित रिपोर्ट की गई, जिसके बाद चिकित्सकों ने 20 दिसम्बर को ब्रेन डेड घोषित कर दिया। स्टेट ऑर्गन टिश्यु ट्रान्सप्लान्ट ऑर्गेनाइजेशन (सोटो) की टीम ने हितेशभाई के परिजनों को अंग दान के लिए बताया और काउंसलिंग किया। मरीज के पुत्र कौशिकभाई ने ब्रेनडेड पिता के अंगों को दान देने की स्वीकृति दी। जिससे हितेशभाई के लीवर, किडनी और फेफड़े समेत चार अंगों को दान किया। इनमें से फेफड़े को ग्रीन कॉरिडोर के माध्यम से अहमदाबाद हवाई अड्डे पर पहुंचाया गया जहां उसे जरूरतमंद को ट्रान्सप्लान्ट किया गया। इसके अलावा एक लीवर और दो किडनी का ट्रान्सप्लान्ट इंस्टीट्यूट ऑफ किडनी डिजिस एंड रिसर्च सेंटर (आईकेडीआरसी) में पहुंचाया गया। जहां तीनों अंगों को जरूरतमदों को प्रत्योरोपित किया।
अहमदाबाद का सिविल अस्पताल: 25वें ब्रेन डेड मरीज के अंगदान, दान में मिले 86 अंगों में से 72 को मिला जीवन
अहमदाबाद का सिविल अस्पताल: 25वें ब्रेन डेड मरीज के अंगदान, दान में मिले 86 अंगों में से 72 को मिला जीवन
दो हाथों समेत 86 अंग मिले

सिविल अस्पताल में एक वर्ष के समय में 25 ब्रेन डेड दाताओं ने 86 अंग देकर 72 लोगों का जीवन बचाया। इन 25 दाताओं के अंगों में 23 लीवर, 41 किडनी, पांच पेंक्रियाज, दो हाथ, पांच जोड़ी फेफड़े और चालीस आंखों का दान किया गया। पिछले एक वर्ष से अंगदान को लेकर जागरुकता बढऩे के कारण यह परिणाम आ रहे हैं। अस्पताल की सोटो टीम व अस्पताल प्रशसन के परिश्रम और दानदाताओं के परिजनों की ओर से स्वीकृति दिए जाने के बाद यह संभव हुआ है।
डॉ. राकेश जोशी, चिकित्सा अधीक्षक सिविल अस्पताल

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

पंजाबः अवैध खनन मामले में ईडी के ताबड़तोड़ छापे, सीएम चन्नी के भतीजे के ठिकानों पर दबिशPunjab Assembly Election 2022: पंजाब में भगवंत मान होंगे 'आप' का सीएम चेहरा, 93.3 फीसदी लोगों ने बताया अपनी पसंदUttarakhand Election 2022: हरक सिंह रावत को लेकर कांग्रेस में विवाद, हरीश रावत ने आलाकमान के सामने जताया विरोधUP Election 2022 : अखिलेश के अन्न संकल्प के बाद भाकियू अध्‍यक्ष का यू टर्न, फिर किया सपा-रालोद गठबंधन के समर्थन का ऐलानभारत के कोरोना मामलों में आई गिरावट, पर डरा रहा पॉजिटिविटी रेटकौन हैं भगवंत मान, जाने सबकुछशुक्र जल्द होंगे मार्गी, इन 5 राशि वालों को धन की प्राप्ति के बन रहे योगयहां पुलिस ने उठाया नक्सल प्रभावित गांवों के बच्चों को पढ़ाने का जिम्मा, नि:शुल्क कोचिंग में सपने गढ़ रहे छात्र
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.