Ahmedabad News अब बीआरटीएस कॉरिडोर में घुसे तो देना होगा भारी जुर्माना, दर्ज होगा मामला भी

BRTS, Bus, corridor, entry ban, heavy penalty, FIR, special squad formed, RFID tag gate, AMC पुलिस और बीआरटीएस की संयुक्त टीमों का गठन, साबरमती, मेम्को, खमासा, नारोल इलाके में शुरू की गई संयुक्त कार्रवाई

By: nagendra singh rathore

Updated: 27 Nov 2019, 08:43 PM IST

अहमदाबाद. बीआरटीएस कॉरिडोर में बीआरटीएस बसों के अलावा अन्य किसी भी प्रकार के वाहनों के प्रवेश करने पर पाबंदी है, इसके बावजूद कई वाहन चालक कॉरिडोर से होकर वाहन निकालते हैं। लेकिन अब उन्हें ऐसा करना काफी महंगा पड़ सकता है। इस कारण भारी जुर्माने चुकाने के साथ पुलिस केस का भी सामना करना पड़ सकता है।
कॉरिडोर में प्रवेश करने वाले अनधिकृत वाहन चालकों पर कार्रवाई करने के लिए अहमदाबाद महानगर पालिका और अहमदाबाद शहर यातायात पुलिस ने संयुक्त टीम बनाई हैं। इन टीमों ने बुधवार से ही मेम्को, खमासा, साबरमती और नारोल के काशीराम टैक्सटाइल इलाके में बीआरटीएस कॉरिडोर के अंदर अनधिकृत वाहनों के प्रवेश करने पर उनसे भारी जुर्माना वसूलने की कार्रवाई शुरू कर दी है।
मनपा आयुक्त विजय नेहरा ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि बीआरटीएस कॉरिडोर में घुसने वाले अनधिकृत दुपहिया और तिपहिया वाहन चालकों से १५०० रुपए का जुर्माना वसूला जाएगा, जबकि कार एवं अन्य हल्के वाहन चालकों से तीन हजार रुपए और भारी वाहन चालकों से पांच हजार रुपए का जुर्माना वसूला जाएगा।
ऐसा करने वाले वाहन चालकों पर शहर पुलिस आयुक्त की अधिसूचना का उल्लंघन की धारा १८८ के तहत एवं मोटर व्हीकल एक्ट की धारा के तहत कार्रवाई की जाएगी। इसके लिए बीआरटीएस कर्मचारी और ट्रैफिक कर्मचारियों की संयुक्त टीमें बनाई गई हैं। साबरमती इलाके में एक अधिकारी भी इस कार्रवाई के दौरान बीआरटीएस कॉरिडोर में प्रवेश करने पर पकड़े गए और उनका भी चालान कटा।

कॉरिडोर में लगेंगे आरएफआईडी टैग संचालित स्विंग गेट

बीआरटीएस कॉरिडोर में बीआरटीएस बसों के अलावा अन्य अनधिकृत वाहनों को प्रवेश करने से रोकने के लिए आरएफआईडी टैग संचालित स्विंग गेट लगाए जाएंगे। जो तभी खुलेंगे जब टैग लगी बस सामने से आ रही होगी अन्यथा वे बंद रहेंगे। इस कारण अन्य वाहन कॉरिडोर में प्रवेश नहीं कर सकेगा। झुंडाल से विसत चार रास्ते तक के कॉरिडोर में सात जगहों पर ऐसे गेट लगा दिए गए हैं। राणीप से नेहरूनगर तक के इलाके में 32 आरएफआईडी टैग आधारित स्विंग गेट लगाए जाएंगे। इसके अलावा कॉरिडोर के प्रवेश स्थलों पर टीआरबी, पूर्व सैनिकों की भी तैनाती की गई है।

३५ स्टेशनों पर लगे हैं ऑटोमेटिक नंबर प्लेट रिकॉग्निशन कैमरे

बीआरटीएस के 143 स्टेशनों पर कैमरे ५७५ कैमरे लगे हुए हैं। इसमें से ३५ स्टेशनों पर ऑटोमेटिक नंबर प्लेट रिकॉग्निशन कैमरे लगे हैं। जो अनधिकृत वाहन के कॉरिडोर में प्रवेश करने पर एवं यातायात नियम तोडऩे पर उसे कैप्चर करके ई-चालान भेजने में मददरूप होंगे।

nagendra singh rathore
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned