बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के लिए अब तक इतनी भूमि का अधिग्रहण

Bullet train project, NHSRCL, ahmedabad to mumbai train, indian railway, railway passengers

अहमदाबाद. मुंबई- अहमदाबाद हाईस्पीड रेल (MAHSR) बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट (bullet train) के लिए अब तक 50 फीसदी ज्यादा भूमि का अधिग्रहण किया जा चुका है। बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के लिए 1380 हेक्टेयर भूमि की आवश्यकता है जिसमें अब तक 705 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण हो चुका है। गुजरात (Gujarat) की बात की जाए तो यहां 904 हेक्टेयर भूमि में से अब तक 617 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण हो चुका है। वहीं दादरानगर हवेली में 8.7 हेक्टेयर भूमि में से 6.9 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण हुआ है। जबकि महाराष्ट्र में 431 हेक्टेयर में भूमि में महज 81 हेक्टेयर भूमि का ही अधिग्रहण हुआ है।
एनएचआरसीएल की प्रवक्ता सुषमा गौड़ के मुताबिक नेशनल हाईस्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड मुंबई-अहमदाबाद हाईस्पीड रेल कॉरिडोर प्रोजेक्ट के लिए काम करने वाली एजेंसी है, जो भारत सरकार के रेलवे मंत्रालय एवं राज्य सरकार की संयुक्त कंपनी है। एनएचएसआरसीएल का अधिकृत शेयर कैपिटल 20 हजार करोड़ रुपए का है, जिसमें भारत सरकार, गुजरात सरकार और महाराष्ट्र सरकार की शेयर होल्डिंग है। इसका अनुपात 50: 25: 25 का है। जापान इन्टरनेशनल कॉर्पोरेशन एजेंसी (जायका) की ओर से प्रोजेक्ट बनाने के लिए फंड दिया जाएगा, जो 50 वर्षों में 0.1 फीसदी की दर से पुनर्भुगतान करना है।
बुलेट ट्रेन दौड़ेगी एलीवेटेड कोरिडोर पर
अहमदाबाद से मुंबई के बीच दौडऩे वाली यह बुलेट ट्रेन 12 से 15 मीटर ऊंचाई पर एलीवेटेड कोरिडोर पर दौड़ेगी। हालांकि वापी से मुंबई के बीच समुद्र में टनल के भीतर दौड़ेगी। कभीकभार मुंबई के अलावा दक्षिण गुजरात में भारी बारिश होती है और ट्रेन ऊंचाई होने से यूं तो बुलेट ट्रेन में दिक्कत तो नहीं होगी। इसके बावजूद ट्रेन में रेन गेज सिस्टम लगाएं जाएंगे और पानी का स्तर जांच जाएगा। बाद में ट्रेन की सुरक्षा के लिए उचित कदम उठाए जाएंगे। वहीं सुरंग में प्रवेश द्वारों पर और छह स्थानों पर सेंसर लगाए जाएंगे। वहीं बुलेट ट्रेन के एलीवेटेड कोरिडोर पर 14 स्थानों एवं गुजरात की आठ नदियों पर तेज हवाओं के अलावा दिशा को नापने के लिए मीटर लगाया जाएंगे। ऐसे में यदिहवा की रफ्तार 30 किलोमीटर प्रति घंटे से ज्यादा होती है तो ऑपरेशन कंट्रोल सिस्टम सेफ्टी अलार्म बजेगा। बाद में कंट्रोल रूम से ट्रेन रोक दी जाएगी। कंट्रोल सिस्टम साबरमती डिपो में बनेगा।

Pushpendra Rajput Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned