यूरोप का टेंपररी रेसिडेंट परमिट दिलाने के नाम पर ९ लाख की ठगी

पीडि़त दो युवकों ने वेजलपुर थाने में दर्ज कराई प्राथमिकी

 

By: nagendra singh rathore

Published: 15 Nov 2018, 10:44 PM IST

अहमदाबाद. यूरोप का टेंपररी रेसिडेंट परमिट दिलाने के नाम पर नौ लाख से ज्यादा की ठगी करने का मामला वेजलपुर थाने में दर्ज हुआ है।
मूलत: राजस्थान के पाली जिले की सोजत सिटी के सिरवियोन का वास हाल वेजलपुर निवासी भरत चौहान(३८) ने वडोदरा के फतेहगंज इलाके में सेफ्रोन कॉम्पलैक्स स्थित वीजा सोल्यूशन फॉर यू नाम की कंपनी के संचालक निर्मल बजाज और गायत्री मेहता के विरुद्ध ठगी व विश्वासघात का आरोप लगाया है।
बुधवार की रात को दर्ज कराई प्राथमिकी में आरोप लगाया है कि इन लोगों ने समाचार पत्र में विज्ञापन देकर मार्च-अप्रेल-२०१७ से नवंबर २०१८ के दौरान भरत चौहान और उसके मित्र शैलेष को यूरोप में टेंपररी रेसिडेंट परमिट दिलवाने के नाम पर नौ लाख १७ हजार रुपए ठग लिए। इसमें से भरत के पास से चार लाख १७ हजार और शैलेष के पास से पांच लाख रुपए ठग लिए। ना तो पैसे लौटाए ना ही यूरोप का टेंपररी रसिडेंट परमिट ही दिलवाया। इसमें से भरत के पास से चार लाख १७ हजार और शैलेष के पास से पांच लाख रुपए ठग लिए। ना तो पैसे लौटाए ना ही यूरोप का टेंपररी रसिडेंट परमिट ही दिलवाया।
एम्ब्रोडरी का काम करने वाले को लगाई ३६ लाख की चपत
अहमदाबाद. निकोल में एम्ब्रोडरी का काम करने वाले बाबूभाई जेठवा को ३६ लाख रुपए की चपत लगाने का मामला निकोल में दर्ज हुआ है।
बाबूभाई ने बुधवार को निकोल थाने में इस बाबत निकोल श्रीनाथ पार्क निवासी राकेश पानसुरी, ठक्करनगर निवासी शिवा गोहिल और हीरावाडी निवासी दीपाभाई पेंटर के विरुद्ध ठगी व विश्वासघात का आरोप लगाया है। आरोप है कि अगस्त से लेकर नवंबर २०१८ के दौरान आरोपियों ने बाबूभाई के पास से ३६ लाख रुपए का टुकड़े-टुकड़े में एम्ब्रोडरी का कामकाज करवा लिया और उसके पैसे नहीं चुकाए। आरोप है कि अगस्त से लेकर नवंबर २०१८ के दौरान आरोपियों ने बाबूभाई के पास से ३६ लाख रुपए का टुकड़े-टुकड़े में एम्ब्रोडरी का कामकाज करवा लिया और उसके पैसे नहीं चुकाए।

nagendra singh rathore
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned