पाटीदार आरक्षण पर कांग्रेस पार्टी के तीन फार्मूले

पाटीदारों को ओबीसी के तहत आरक्षण देने के मुद्दे पर कांग्रेस नेताओं और पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति (पास) के बीच बुधवार को आधी रात करीब ढाई बजे तक चली म

By: मुकेश शर्मा

Published: 10 Nov 2017, 05:30 AM IST

अहमदाबाद।पाटीदारों को ओबीसी के तहत आरक्षण देने के मुद्दे पर कांग्रेस नेताओं और पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति (पास) के बीच बुधवार को आधी रात करीब ढाई बजे तक चली मैराथन बैठक के बाद भी कोई निर्णय नहीं निकल सका। कांग्रेस ने पाटीदारों को आरक्षण देने के लिए तीन फार्मूले रखे हैं। अब गेंद हार्दिक पटेल के पाले में है। बैठक की रिपोर्ट क ांग्रेस हाईकमान को दे दी गई है। यह बैठक इस मायने में महत्वपूर्ण थी कि अगले महीने होने वाले गुजरात विधानसभा चुनाव में हार्दिक व उनका आंदोलन कांग्रेस को समर्थन करेंगे या नहीं?

पास व कांग्रेस के बीच चार अहम मुद्दों पर पहले ही सहमति बन चुकी है।

हार्दिक फिर रहे नदारद

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और वकील कपिल सिब्बल के नेतृत्व में यहां प्रदेश कांग्रेस भवन मेंपार्टी के प्रादेशिक स्तर के नेताओं और पास की कोर कमेटी की ओर से संयोजक दिनेश बांभणिया, अल्पेश कथिरिया, ललित वसोया, गीता पटेल सहित १३ सदस्यों के बीच बैठक हुई। इसमें लगातार दूसरी बार पास संयोजक हार्दिक पटेल मौजूद नहीं रहे। पाटीदारों को संवैधानिक तरीके से आरक्षण देने को लेकर रात साढ़ ग्यारह बजे बैठक शुरू हुई।

इसमें कपिल सिब्बल ने पास को आरक्षण के संबंध में तीन फॉर्मूले सुझाए। इसके बाद पास सदस्यों ने इसकी संवैधानिकता पर प्रश्र किए तो दोनों पक्षों के बीच रात को डेढ़ बजे ही दूसरे दौर की बैठक शुरू हो गई। इसके बाद इस दौरान कांग्रेस की ओर से कपिल सिब्बल ने बैठक को सकारात्मक बताया। ‘पास’ के सभी मुद्दों को सुना गया। संविधान के हिसाब से आरक्षण दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि इसकी रिपोर्ट कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष और उपाध्यक्ष राहुल गांधी को भेजेंगे। फिर अंतिम निर्णय कांग्रेस आलाकमान व हार्दिक करेंगे।

ईबीसी मंजूर नहीं : बाभणिया

रात ढाई बजे तक मंथन चलने के बाद पास संयोजक बाभंणिया ने बताया कि वे सभी प्रस्ताव हार्दिक को भेजेंगे। बांभणिया ने कहा कि आर्थिक पिछड़ा आयोग (ईबीसी) के तहत आरक्षण स्वीकार नहीं है। यह कानून के प्रावधान में नहीं है। हमारी मांग ओबीसी आरक्षण की ही है। हालांकि कांग्रेस ने जो तीन विकल्प दिए हैं, उनकी संभावनाओं को तलाशा जाएगा। उधर, हार्दिक की ओर से बताया गया कि वे समाज के प्रमुखों व विशेषज्ञों से चर्चा के बाद कुछ तय करेंगे।

फिर होगी बैठक

कपिल सिब्बल के अनुसार, उच्च स्तर पर विचार-विमर्श के बाद फिर अंति बैठक होगी। संभव है इसमें नतीजा निकलेगा।

तमिलनाडु फॉर्मूले का ही विकल्प बचा

हार्दिक पटेल की ओर से आर्थिक आधार पर आरक्षण का प्रस्ताव ठुकराने के बाद कांग्रेस असमंजस में है। पार्टी के पास हालांकि तमिलनाडु समेत उन राज्यों का फार्मूला लागू करने का विकल्प है जिन्होंने तय सीमा से अधिक आरक्षण दे रखा है, लेकिन इससे सामान्य जातियों में गलत संकेत जाने का खतरा है।

BJP Congress
Show More
मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned