Coronavirus: गुजरात में वकालत से वंचित वकीलों को राहत, प्रस्ताव को बीसीआई की लेनी होगी मंजूरी

Coronavirus, Gujarat, Advocates, Job,

By: Uday Kumar Patel

Published: 26 Jun 2020, 01:24 AM IST

अहमदाबाद. कोरोना महामारी ने वकालत के क्षेत्र को भी प्रभावित किया है। गुजरात में ज्यादातर वकील कोरोना के कारण वकालत की व्यवसाय से वंचित हो गए हैं और आर्थिक मुश्किलों का सामना कर रहे हैं। बार काउंसिल ऑफ गुजरात (बीसीजी) ने इन वकीलों को इस वर्ष के अंत तक वकालत के सिवाय अन्य कोई नौकरी करने की मंजूरी दी है। बीसीजी की गत दिनों असाधारण बैठक में यह निर्णय लिया गया।
ऐसे वकीलों को एडवोकेट्स एक्ट की धारा 35 से राहत दी गई है। इस धाराके तहत किसी भी वकील को बार काउंसिल की मंजूरी के बिना वकालत के सिवाय अन्य नौकरी, धंधा, व्यापार नहीं कर सकता। इस प्रस्ताव को बार काउंसिल ऑफ इंडिया (बीसीआई) को मंजूरी के लिए भेजा गया है। इस प्रस्ताव को बीसीआई की मंजूरी लेनी होगी।


जूनियर वकीलों को ज्यादा परेशानी


गुजरात बार काउंसिल के अनुशासनात्मक समिति के अध्यक्ष अनिल केल्ला के मुताबिक गुजरात में करीब ३७ हजार से ज्यादा जूनियर वकील हैं। इन वकीलों को कोरोना के चलते अदालत में नियमित सुनवाई नहीं होने के कारण आर्थिक परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

जूनागढ़ के वकीलों का विरोध

उधर जूनागढ़ में वकीलों ने इस प्रस्ताव का विरोध किया। विरोध के तहत जूनागढ़ बार एसोसिएशन के वकीलों ने फल बेचे।

coronavirus
Uday Kumar Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned