२० लाख की लोन के चक्कर में एक लाख गंवाए

Crime, fraud, loan, Ahmedabad city, kyc update fraud, cyber crime -सोशल मीडिया के जरिए संपर्क करना पड़ा महंगा

By: nagendra singh rathore

Published: 23 Jul 2021, 08:50 PM IST

अहमदाबाद. कोरोना महामारी के चलते लोगों की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। लोगों को पैसों की जरूरत है, जिसको चलते शातिर ठग लोगों को अपने जाल में फंसा रहे हैं। ऐसा ही एक मामला गुरुवार को सोला हाईकोर्ट थाने में दर्ज हुआ है जिसमें ठग ने २० लाख रुपए की लोन दिलाने के नाम पर एक लाख रुपए ठग लिए।
गोता वंदेमातरम निवासी पीडि़त राजेश मिी के साथ यह ठगी हुई। पैसों की जरूरत होने के चलते राजेश ने सोशल मीडिया (फेसबुक) पर बनाए गए एक पेज से बजाज फायनांस का संपर्क नंबर लेकर लोन लेने के लिए बात की। जिसके बाद 22 फरवरी २०२१ को सामने से एक व्यक्ति का फोन आया उसने खुद को बजाज फायनांस का कर्मचारी बताते हुए २० लाख रुपए की लोन दिलाने की बात कही। इसके लिए प्रोसेस करने को कहा। प्रोसेस फीस के नाम पर 21 सौ रुपए ऑनलाइन जमा करा लिए फिर कहा कि लोन के इंश्योरेंस के लिए कुछ राशि जमा करनी होगी। ऐसा कहकर एक लाख पांच हजार रुपए जमा करा लिए। लेकिन बावजूद उसके लोन पास नहीं करके ठगी की।

बैंक में केवाईसी अपडेट करने के नाम पर ६७ हजार किए पार

अहमदाबाद. बैंक में केवाईसी (नो योर कस्टमर) के दस्तावेज अपडेट करने के नाम पर ६७ हजार रुपए खाते से पार करने का मामला सामने आया है।
नारणपुरा निवासी दिनेश पटेल ने इस बाबत गुरुवार को नारणपुरा थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है। जिसमें उन्होंने बताया कि उनके साथ यह घटना २८ मार्च को हुई। इस दिन एक व्यक्ति ने उन्होंने फोन कर कहा कि वह एसबीआई बैंक की रेलवेपुरा शाखा से बोल रहा है। आपको बैंक का केवाईसी अपडेट कराना होगा। ऐसा नहीं करने पर आपके खाते का बैलेंस जीरो हो जाएगा। उसकी बातों में आकर दिनेशभाई ने व्यक्ति को ओटीपी नंबर बता दिया, जिसके बाद आरोपी ने उनके खाते से ६७ हजार रुपए पार कर दिए।

nagendra singh rathore
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned