Ahmedabad News सीयूजी में इनोवेशन के साथ शोध, रोजगार परक शिक्षा प्राथमिकता: कुलपति प्रो.दुबे

CUG, VC Professor Rama shankar dubey, Gujarat, Education, innovation, research, value based education, cultural activity calender, hostel, canteen, सीयूजी का स्थाई कैंपस होगा हराभरा और सुविधायुक्त, सीयूजी के नए कुलपति प्रो.रमा शंकर दुबे ने गिनाईं प्राथमिकता

अहमदाबाद. गुजरात केन्द्रीय विश्वविद्यालय (सीयूजी) के नए कुलपति प्रो.रमा शंकर दुबे ने कहा कि इनोवेशन के साथ समाज और उद्योग के लिए उपयोगी हो ऐसी शोध को बढ़ाना और शिक्षा को गुणवत्तायुक्त बनाने के साथ रोजगारपरक बनाना उनकी प्राथमिकता है।
सीयूजी में विज्ञान के विषयों से जुड़ी अच्छी सुविधाएं और उपकरण हैं उसका बेहतर उपयोग हो इस पर भार दिया जाएगा। शोध को गुजरात, देश व अंतरराष्ट्रीय स्तर की उद्योग व समाज की मांग के अनुरूप इनोवेशन के साथ आगे बढ़ाया जाएगा। प्राध्यापकों को शोध के लिए ज्यादा फंड दिलाएंगे।
उन्होंने कहा कि वर्ष २०२० में उनकी प्राथमिकता विश्वविद्यालय को वडोदरा के पास कुंदेरा गांव में मिली १०० एकड़ जगह पर हराभरा और सभी सुविधाओं से युक्त परिसर के निर्माणकार्य को शुरू कराना भी है। परिसर में सौर ऊर्जा पैनल के साथ, वॉटर हार्वेस्टिंग और सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट सरीखी व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएंगीं। आगामी दो से ढाई साल में स्थाई परिसर तैयार कराना भी उनकी प्राथमिकता में है।

सांस्कृतिक गतिविधि कलेन्डर बनाएंगे
कुलपति प्रो.दूबे ने कहा कि सूयीजी का नए शैक्षणिक सत्र से शैक्षणिक गतिविधि कलेन्डर तो बनेगा ही,लेकिन वे सांस्कृतिक गतिविधि कलेन्डर भी बनाएंगें। जिसमें विद्यार्थियों को देश के विविध प्रांतों के नृत्य, कला, संस्कृति, गीत-संगीत की जानकारी और प्रशिक्षिण देने के लिए प्रतियोगिताएं होंगीं। महापुरुषों की जयंती मनाई जाएगी। वाद-विवाद, लेखन स्पर्धाएं होंगीं। इसके लिए सांस्कृतिक काउंसिल भी बनाएंगे।

मूल्यनिष्ठ शिक्षा के लिए सप्ताहभर का ओरिएंटेशन प्रोग्राम
उन्होंने कहा कि नए शैक्षणिक वर्ष के शुभारंभ के साथ ही विद्यार्थियों को भारतीयता, देश की संस्कृति, मानवीय मूल्यों की शिक्षा दी जाएगी। विद्यार्थियों का शारीरिक, बौद्धिक, चारित्रिक व नैतिक विकास हो इसके लिए एक सप्ताह का ओरिएंटेशन प्रोग्राम किया जाएगा। कुछ मुद्दों को कोर्स में संभव होगा तो शामिल करने का प्रयास करेंगे।


रहने और खाने-पीने की समस्या का समाधान
कुलपति ने कहा कि उन्होंने पदभार ग्रहण करते ही विद्यार्थियों से उनकी समस्याओं के बारे में पूछा है। होस्टल (रहने) की और भोजन की गुणवत्ता की कुछ शिकायतें थीं, जिनका निपटारा किया है। इन्फोसिटी के पास नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ को-ऑपरेटिव मैनेजमेंट के साथ करार करके 16 कमरे लिए हैं,जिनमें छात्राओं के रहने की व्यवस्था की है। आगामी वर्ष यहां ३४ कमरे सुनिश्चित किए जाएंगे, ताकि ७४ छात्राएं रह सकें। सभी होस्टलों में भोजन की गुणवत्ता पर भी ध्यान दिया जा रहा है। फेलोशिप भी विद्यार्थियों को हर महीने की एक तारीख को मिले इसके लिए निर्देश दिए गए हैं।

विश्वविद्यालय ज्ञान के मंदिर, हिंसा निंदनीय
जेएनयू में हुई हिंसा की प्रो.दुबे ने निंदा की। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय ज्ञान के मंदिर हैं। वहां हिंसा का वातावरण नहीं होना चाहिए। शिक्षण का, पठन का, चर्चा का माहौल होना चाहिए। वैचारिक और शांतिप्रिय तरीके से अपनी बात रखी जानी चाहिए। वे व्यक्तिगत रूप से मानते हैं कि शिक्षक समाज के निर्माता हैं। उन्हें विद्यार्थियों को एक जिम्मेदार नागरिक व देशभक्त बनाने पर भी और ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है।

Ahmedabad News सीयूजी में इनोवेशन के साथ शोध, रोजगार परक शिक्षा प्राथमिकता: कुलपति प्रो.दुबे
Show More
nagendra singh rathore
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned