उत्तर भारतीयों पर हमले के लिए भड़काने वाले दस और गिरफ्तार

साइबर सेल ने अब तक ४४ को पकड़ा

 

By: nagendra singh rathore

Published: 12 Oct 2018, 11:10 PM IST

अहमदाबाद. सोशल मीडिया के जरिए उत्तर भारतीय लोगों पर हमला कर उन्हें यहां से भगाने के लिए लोगों को उकसाने वाले वीडियो, फोटो और कमेंंट्स लिखने वाले और दस आरोपियों को साइबर सेल ने गिरफ्तार किया है। इनको छह जिलों में से जिलों की पुलिस की मदद से गिरफ्तार किया है। अब तक साइबर सेल इस मामले में ४४ आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है। इसके अलावा डेढ़ सौ से ज्यादा आरोपियों को चिन्हित किया जा चुका है।
साइबर सेल के सहायक पुलिस आयुक्त जे.एस.गेडम ने बताया कि पकड़े गए आरोपियों में साबरकांठा जिले से अजय उर्फ नयन पंचाल, आणंद जिले से भरत मगन ठाकोर, शैलेष रतिलाल पढियार, पंचमहाल जिले से शैलेषकुमार राठौड़, महेसाणा जिले से गोविंदजी उर्फ गोविंदसिंह बारड, चेहराजी ठाकोर, मोरबी जिले से संदीप हडियल, देवराज छीपरा, गौतम हडियल एवं पाटण जिले से भाईलाल ठाकोर शामिल हैं। अब तक 44 आरोपियों की गिरफ्तारी की जा चुकी है।
आरोपियों के पास से मोबाइल फोन भी बरामद किए गए हैं। उन मोबाइल फोन के जरिए ही आरोपियों ने भड़काई वीडियो अपलोड किए थे। पोस्ट लिखी थी और फोटो पोस्ट की थी। पकड़े गए आरोपी ज्यादातर श्रमिक और नौकरी करने वाले हैं। इन्होंने किसके कहने पर यह पोस्ट लिखे और वायरल किए। इस बारे में भी इनसे पूछताछ की जा रही है। इसके लिए आरोपियों को रिमांड भी लिया जाएगा।
फेसबुक से २७ आरोपियों का ब्यौरा मांगा
गेडम ने बताया कि अब तक डेढ़ सौ के करीब आरोपियों के नाम चन्हित किए जा चुके हैं। इनके बारे में सबूत जुटाने का कामकाज जारी है। इसमें से करीब २७ आरोपी के बारे में पुख्ता सबूत जुटाने और उनका सही नाम पता करने के लिए फेसबुक से ब्यौरा मांगा गया है। वहां से ब्यौरा मिलते ही इन आरोपियों की भी गिरफ्तारी की जाएगी। गेडम ने बताया कि अब तक डेढ़ सौ के करीब आरोपियों के नाम चन्हित किए जा चुके हैं। इनके बारे में सबूत जुटाने का कामकाज जारी है। इसमें से करीब २७ आरोपी के बारे में पुख्ता सबूत जुटाने और उनका सही नाम पता करने के लिए फेसबुक से ब्यौरा मांगा गया है। वहां से ब्यौरा मिलते ही इन आरोपियों की भी गिरफ्तारी की जाएगी।

nagendra singh rathore
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned