एक महिला की मौत , १४ को दम घुटने का असर

एक महिला की मौत , १४ को दम घुटने का असर

Omprakash Sharma | Publish: Jul, 26 2019 10:43:44 PM (IST) Ahmedabad, Ahmedabad, Gujarat, India

8सोला सिविल अस्पताल में भर्ती

अहमदाबाद. शहर के गोता क्षेत्र मेें शुक्रवार को एक इमारत में लगी आग के चलते एक बच्चा और एक फायरब्रिगेड जवान समेत १४ को दम घुटने का असर हुआ है। इनमें से आठ सोला सिविल अस्पताल में और चार वीएस अस्पताल में भर्ती हैं। अन्य दो को निजी अस्पतालों में ले जाया गया।
बहुमंजिला इस इमारत में हुई दुर्घटना में दम घुटने से अधिक लोगों की स्थिति खराब हुई। इमारत में बड़ी मात्रा में धुंआ का गुबार छा गया था, जिससे लोगों की स्थिति खराब हुई थी। इस हादसे में अंजनाबेन महेश पटेल नामक ५० वर्षीय एक महिला की मौत हो गई। पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंपा जाएगा। दम घुटने से असरग्रस्त हुए सरस्वती अमा (५४), ममता रामारेडी (३०), नितिन मोदी (६१), रामारेडी (३१), रामाकृष्णा (६०), प्रतीक मोदी (३४), शरदी रामारेडी (२) तथा फायर ब्रिगेड कर्मी मिथुन मिी (४३), को सोला सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। इसके अलावा चार जनों को वीएस अस्पताल एवं दो को दो निजी अस्पतालों में भर्ती करवाया गया है।
केमिकल युक्त धुंआ से हुआ ज्यादा असर
अहमदाबाद फायर ब्रिगेड के मुख्य फायर अधिकारी एम.एफ. दस्तूर तथा अतिरिक्त मुख्य फायर अधिकारी राजेश भट्ट का कहना है कि जिस आवास मेें आग लगी थी उसमे फर्नीचर व अन्य केमिकल युक्त वस्तुएं लगी हुई हैं। लिफ्ट तक मकान में इस तरह की वस्तुएं लगे होने से आग ने गंभीर स्वरूप ले लिया था। इन वस्तुओं के जलने से उत्पन्न धुंआ भी केमिकल युक्त हो गया था। जिसका सीधा असर फेफड़ों पर हुआ है।
असरग्रस्त होने से पहले आठ को बचाया फायरब्रिगेड जवान ने
दुर्घटना में असरग्रस्त हुए फायर ब्रिगेड के जवान मिथुन मिी ने पहले आठ लोगों को सुरक्षित निकाला था। बार-बार बाहर-भीतर जाने के कारण उन्हें भी धुंए का असर हो गया था। गंभीर असर के कारण उन्हें सोला सिविल अस्पताल के आईसीयू कक्ष में भर्ती करवाया गया। चिकित्सकों का अनुसार उनकी हालत में आंशिक सुधार हुआ है।
सोला सिविल में सभी की हालत सुधार पर
गोता आग दुर्घटना के असरग्रस्त जो आठ जन सोला सिविल अस्पताल में भर्ती हैं उनकी हालत अब कुछ सुधार में है। फायरब्रिगेड कर्मचारी मिथुन मिी व अन्य कुछ लोगों का उपचार आईसीयू में किया जा रहा है। दुर्घटना में घायल ज्यादातर लोग सफोकेशन की स्थिति से गुजरे हैं। जिससे उनके फेफड़े और गले में सूजन होने के कारण उनकी स्थिति पर चेस्ट फिजिशियन चिकित्सक नजर बनाए हुए हैं। संभावना है कि उनकी हालत में सुधार हो जाएगा।
डॉ. आर.एम. जीतिया, अधीक्षक सोला सिविल अस्पताल

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned