जेहादी घुसपैठियों को बाहर निकालने की मांग

जेहादी घुसपैठियों को बाहर निकालने की मांग

Rajesh Bhatnagar | Publish: Aug, 12 2018 11:08:30 PM (IST) Ahmedabad, Gujarat, India

विहिप-बजरंग दल के अखंड भारत संकल्प दिवस पर हिन्दू सम्मेलन में केंद्रीय संयुक्त महामंत्री डॉ. जैन ने समग्र देश में एनआरसी का अमल करने की मांग की

अहमदाबाद. विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) के संयुक्त महामंत्री डॉ. सुरेंद्र जैन ने समग्र देश में नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन्स (एनआरसी) का अमल कर जेहादी घुसपैठियों को बाहर निकालने की केंद्र सरकार से मांग की है।
विहिप व बजरंग दल की कर्णावती नगर (अहमदाबाद शहर) इकाई की ओर से अखंड भारत संकल्प दिवस पर यहां कांकरिया स्थित श्री वेद माता मंदिर में शनिवार शाम को हिन्दू सम्मेलन में उन्होंने मुख्य वक्ता के तौर पर यह मांग की।
उन्होंने कहा कि देश में घुसे बांग्लादेशी मुस्लिम घुसपैठियों व रोहिंग्या मुसलमानों को देश से बाहर निकालने का अनेक राजनेता व मुस्लिमों की ओर से विरोध किया जा रहा है। इसे देश की अखंडितता व सार्वभौमिकता के लिए खतरा बताते हुए उन्होंने कहा कि देश के कौने-कौने से घुसपैठियों को ढूंढक़र देश से बाहर निकालने की आवश्यकता है।
उन्होंने इसके लिए केवल आसाम ही नहीं, बल्कि समग्र देश में एनआरसी के अमल की मांग की। उन्होंने जवाहरलाल नेहरू की सदस्यता वाली वर्ष 1930 में बनी ध्वज कमेटी की ओर से सिफारिश करने के बावजूद हिन्दू संस्कृति की पहचान समान भगवा ध्वज को राष्ट्रध्वज के तौर पर अस्वीकार करने का उल्लेख करते हुए अल्पसंख्यकों के तुष्टीकरण की नीति को देश के विभाजन के लिए जिम्मेदार बताया।
उन्होंने संविधान निर्माता डॉ. अंबेडकर की ओर से अल्पसंख्यकों के तुष्टीकरण की नीति के विरोध में दी गई स्पष्ट चेतावनी का भी उल्लेख किया। डॉ. जैन ने कहा कि जिन्ना की ओर से दी गई डिवाइड और डिस्टॉय से नेहरू ने डिस्टॉय का विकल्प स्वीकारा होता तो वर्ष 1947 में हमारा देश खंडित ना होता। उन्होंने देश की एकता व अखंडितता के लिए हिन्दू जीवन शैली का दायरा बढ़ाने पर जोर दिया। उद्योगपति शैलषभाई, भारत सेवाश्रम संघ के संत आत्मभोलानंद, वेद मंदिर के संत भरतमुनि ने भी विचार व्यक्त किए। अंत में बजरंग दल के 200 कार्यकर्ताओं को त्रिशुल दीक्षा दी गई।

Ad Block is Banned