Gujrat : नई डीपी स्कीम को मुख्यमंत्री ने दी हरी झंडी

development project, scheme, CM rupani, flag,, Gandhinagar, : गांधीनगर-गुडा की ड्राफ्ट टीपी, राजकोट की ड्राफ्ट टीपी को भी मंजूरी

By: Pushpendra Rajput

Published: 18 Jul 2021, 08:50 PM IST

गांधीनगर, मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने राज्य के नगरों और महानगरों के विकास को योजनाबद्ध तरीके से आगे बढ़ाकर शहरी विकास की मंशा से एक ही दिन में महेसाणा, बारडोली और धरमपुर सहित तीन नगरों की विकास योजना (डीपी) की अंतिम अधिसूचना को मंजूरी दी है।

उन्होंने उत्तर गुजरात के मेहसाणा के पिछले दो दशक में हुए विकास एवं शहर की विशिष्ट पहचान के लिए उप मुख्यमंत्री नितिनभाई पटेल के दूरदर्शी सुझावों के साथ तैयार मेहसाणा डीपी को अंतिम मंजूरी दी है। इसके अलावा उन्होंने दक्षिण गुजरात के धरमपुर नगर की विकास योजना की अंतिम अधिसूचना को भी स्वीकृति दी है।

मुख्यमंत्री रुपाणी ने बारडोली शहरी विकास प्राधिकरण (बूडा) के अंतर्गत बारडोली शहर और आसपास के 16 गांवों के विकास नक्शों को दी गई प्राथमिक मंजूरी और उस संदर्भ में प्राप्त आपत्तियों और सुझावों की गुणवत्ता के आधार पर बारडोली की विकास योजना को भी अंतिम मंजूरी दी है।
इन तीनों नगरों में विकास योजनाओं की अंतिम अधिसूचना को मुख्यमंत्री की मंजूरी मिलने से अब आगामी दो दशकों के लिए इन शहरों के योजनाबद्ध विकास का रास्ता साफ हो गया है। मुख्यमंत्री ने इन तीन नगरों की विकास योजनाओं की अंतिम अधिसूचना को मंजूर करने के साथ ही गांधीनगर और गांधीनगर शहरी विकास प्राधिकरण (गुडा) क्षेत्र और राजकोट की ड्राफ्ट टीपी को भी मंजूरी दी है।
इसके अनुसार गांधीनगर के आयोजन की पथरेखा पर ही साबरमती नदी के पूर्वी क्षेत्र की और गिफ्ट सिटी के उत्तर में पालज, बासण, लवारपुर और शाहपुर की ड्राफ्ट टीपी स्कीम नं. 25 को मंजूरी दी गई है। साथ ही राजकोट की रैया नं. 1 की ड्राफ्ट टीपी स्कीम भी मंजूर हुई है।
गांधीनगर की ड्राफ्ट टीपी स्कीम नं. 25 को मंजूरी मिलने से गांधीनगर महानगर में लगभग 350 हेक्टेयर अतिरिक्त क्षेत्र का योजनाबद्ध तरीके से विकास होगा। इस स्कीम के चलते गांधीनगर शहरी विकास प्राधिकरण (गुडा) को सड़कों के अलावा सामाजिक और आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लोगों के लिए 3.50 हेक्टेयर, सामाजिक बुनियादी ढांचा विकास के लिए 17 हेक्टेयर और बाग-बगीचों तथा खुली जगह के लिए 10 हेक्टेयर जमीन प्राप्त होगी। वहीं आवासीय और वाणिज्यिक बिक्री के लिए 38.66 हेक्टेयर जमीन प्राप्त होगी। इसके चलते गांधीनगरवासियों को और सुविधाएं उपलब्ध होंगी। मुख्यमंत्री ने शहरी विकास आयोजन को अधिक सुदृढ़ और समयबद्ध बनाने के लिए ऐसी डीपी और टीपी स्कीम की मंजूरी के काम को गतिशील बनाने का विभाग के अधिकारियों को निर्देश भी दिया है।

Pushpendra Rajput Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned